सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

हरक की घर वापसी, बहू अनुकृति ने भी थामा कांग्रेस का हाथ

देहरादून: पांच दिनों तक मचे सियासी घमासान के बाद आखिरकार पूर्व कैबिनेट मंत्री हरक सिंह रावत और उनकी बहू अनुकृति गुसाईं ने आज दिल्‍ली में कांग्रेस का दामन थाम लिया।  इस दौरान पूर्व मुख्‍यमंत्री हरीश रावत समेत कई कांग्रेस नेता मौजूद रहे। इस दौरान हरक सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश का विकास मेरा लक्ष्‍य है। उन्होंने कहा कि मैं बिना शर्त कांग्रेस परिवार में शामिल हुआ हूं।हरक ने कहा मैंने 20 साल तक कांग्रेस के लिए काम किया है। मैं सोनिया गांधी का एहसान किसी भी कीमत पर नहीं भूलूंगा । वहीं देर आयद दुरूस्त आये की कहावत चरितार्थ करते हुये कांग्रेस में पूर्व मंत्री हरक सिंह रावत की वापसी पर पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की प्रदेश चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष हरीश रावत की आपत्ति के बाद पेच फंसा हुआ था । हालांकि सरकार तोडने में हरक की भूमिका जिसमे उन्होंने वर्ष 2016 में बगावत कर उनकी सरकार गिराई भी हरीश रावत बहुत नाराज थे जिसको लेकर हरीश रावत के तीखे तेवरों में अभी कमी नहीं आई है। वह हरक सिंह रावत को लोकतंत्र का गुनहगार बताते हुए पहले माफी मांगने पर जोर देते रहे। लेकिन हरीश रावत कह चुके थे कि हरक की

नए साल में शाह का प्रस्तावित दौरा तय, विजय संकल्प यात्रा से भाजपा का चुनावी शंखनाद

 


 देहरादून / उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव की आदर्श आचार संहिता लगने से पहले के समय का भाजपा पूरा लाभ उठाने में जुटी है। प्रदेश में चल रही विजय संकल्प यात्रा के दौरान होने वाली सभाओं के लिए पार्टी द्वारा जिस तरह अपने स्टार प्रचारक मैदान में उतारे जा रहे हैं, वह तो इसी तरफ इशारा कर रहे हैं।

माना जा रहा कि विधानसभा चुनाव की घोषणा अगले माह के मध्य में हो सकती है। शायद यही कारण है कि भाजपा ने इससे पहले ही अपने सभी स्टार प्रचारकों को चुनावी दृष्टि से राज्य में मोर्चे पर लगाया हुआ है। वैसे भी चुनाव की घोषणा होने के बाद पार्टी के सूचीबद्ध स्टार प्रचारक ही आते हैं। ऐसे में आचार संहिता लगने से पहले के समय का भाजपा भरपूर फायदा उठाने के मूड में है।

इस क्रम में देखें तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तीन माह में उत्तराखंड के तीन दौरे कर चुके हैं तो केंद्रीय मंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह, अनुराग ठाकुर, किरण रिजिजू, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा समेत अन्य नेताओं के भी नियमित अंतराल में कार्यक्रम लग चुके हैं। साफ है कि केंद्रीय मंत्रियों और राष्ट्रीय नेताओं की सभाओं के साथ ही अन्य कार्यक्रम आयोजित कर पार्टी अपने पक्ष में माहौल बनाने के साथ ही स्वयं की जमीन को और मजबूती दे रही है।

यही नहीं, वर्तमान में विजय संकल्प यात्रा के लिए भी पार्टी ने केंद्रीय मंत्रियों समेत अन्य नेताओं की सभाओं के कार्यक्रम तय किए हैं। प्रधानमंत्री मोदी की 30 दिसंबर को कुमाऊं मंडल में रैली पहले ही प्रस्तावित है। पार्टी सूत्रों ने बताया कि विजय संकल्प यात्रा के दौरान केंद्रीय नेताओं के अलावा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी, प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक समेत सरकार के मंत्रियों और पूर्व मुख्यमंत्रियों की सभाएं होंगी।

टिप्पणियाँ

Popular Post