सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

श्रीनगर : जंगलों में 15 दिनों से जारी है तलाशी अभियान , पुंछ में सुरक्षाकर्मियों की आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़

 


श्रीनगर  /  जम्मू-कश्मीर के पुंछ में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों का आमना-सामना हुआ। जिसके तुरंत बाद ही सुरक्षाबलों ने इलाके की घेराबंदी की। प्राप्त जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों को खुफिया सूत्रों से पता चला कि पुंछ के मेंढर इलाके में आतंकवादी छिपे हुए थे। जिसके तुरंत बाद ही तलाशी अभियान चलाया गया। इससे पहले भी रविवार को पुंछ इलाके में सुरक्षाकर्मियों और आतंकवादियोंं के बीच मुठभेड़ हुई। जिसमें एक पाकिस्तानी आतंकवादी मारा गया और तीन सुरक्षाकर्मी जख्मी हो गए। बीते दिनों मेंढर के भट्टा दुर्रियां जंगल से भारी गोलीबारी और विस्फोट की खबरें थीं।पुंछ और राजौरी में छिपे आतंकवादियों का पता लगाने के लिए चलाया जा रहा व्यापक तलाश अभियान 15वें दिन भी जारी रहा। इसी दौरान एक वन्य क्षेत्र से भारी गोलीबारी की खबर भी सामने आई।  ऐसा माना जा रहा है कि आतंकवादी जंगल के भीतर गुफाओं में छिपे हुए हैं। हालांकि 11 अक्टूबर से आतंकवादियों की तलाश शुरू की गई थी। इस दौरान 2 जेसीओ समेत सेना के 9 जवान शहीद हो गए तथा 3 सुरक्षाकर्मी जख्मी हो चुके हैं।आपको बता दें कि तलाशी अभियान के मद्देनजर जम्मू-राजौरी राजमार्ग पर मेंढर और थानामंडी के बीच यातायात सोमवार को 10वें दिन भी एहतियातन बंद है।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव