प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अन्न उत्सव कार्यक्रम का वर्चुअली किया शुभारंभ

 

 



भोपाल /   राजधानी भोपाल के मिंटो हॉल में सुबह 10.30 बजे अन्न उस्तव कार्यक्रम की शुरुआत हुई। सुबह 11 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कार्यक्रम से वर्चुअली इस कार्यक्रम में जुड़े। प्रधानमंत्री मोदी ने मध्य प्रदेश में राशन पाने वाले कई लोगों से बात भी की। उन्होंने इन परिवारों की रोजी-रोटी और बच्चों की पढ़ाई के बारे में पूछा।आपको बता दें कि मोदी ने मध्य प्रदेश में आई बाढ़ का जिक्र करते हुए कहा कि शिवराज और उनकी पूरी टीम राहत देने के कार्यों में लगी हुई है। मध्य प्रदेश में 17 लाख से ज्यादा किसानों से गेहूं खरीदा गया है।  केंद्र सरकार की योजनाओं को राज्य सरकार और संवारकर आगे बढ़ाती है। कोरोना जब से शुरू हुआ, तभी से देश में 80 करोड़ से ज्यादा गरीबों के घरों में मुफ्त में राशन पहुंचा रहे हैं। आज पहली बार आपके बीच में आने का अवसर मिला है।पीएम ने आगे कहा पहले मध्यप्रदेश में बड़े-बड़े घोटालों की खबरें आती थी। आज यहां के शहर स्वच्छता के नए कीर्तिमान गढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए हम सबको मिलकर काम करने की ज़रूरत है।इसके बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वागत भाषण देते हुए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना अंतर्गत निशुल्क राशन वितरण कार्यक्रम के बारे में सभी को जानकारी दी। उनके साथ मंच पर सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया, खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री बिसाहुलाल सिंह भी मौजूद रहे।बताया जा रहा है कि प्रदेश के 4 करोड़ 90 लाख लोगों को निशुल्क राशन इस अन्न उस्तव में मिलेगा। इससे प्रदेश के कुल 1 करोड़ 15 लाख परिवार लाभांवित होंगे। इसी कड़ी में प्रदेश की 25 हजार दुकानों पर लाभार्थियों को राशन मिलेगा। सभी 52 जिलों में मंत्री, सांसद एवं विधानसभा मौजूद रहकर राशन वितिरत कर रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि प्रदेश के बाढ़ प्रभावित जिले शिवपुरी, श्योपुर, गुना, दतिया, भिंड, मुरैना और ग्वालियर में कार्यक्रम नहीं हो रहे हैं लेकिन राशन का वितरण वहां किया जा रहा है। इन इलाकों में 50 किलो अतिरिक्त अनाज दिया जा रहा है।