संक्रमित पानी पीने को मजबूर हैं कार्डीगार्ड ग्राम के क्षेत्रवासी


 

सेहत के लिए शुद्ध पानी नितांत आवश्यक है भले ही सरकारें और विभाग के अफसरान लोगों को शुद्ध पेयजल आपूर्ति का दावा करते हों लेकिन धरातल पर इसका नज़ारा कुछ और ही देखने को मिलता है,गौरतलब है कि दूषित और संक्रमित पानी पीने से जहां पीलिया, पेचिश,नेत्र रोग और गले की बीमारियां होती हैं तो वहीं गंदे और संक्रमित पानी से नहाने पर त्वचा रोग जैसे खुजली,दाद आदि रोग हो जाते हैं। आपको बता दें कि ऐसा ही कुछ देखने को मिल रहा है सहस्त्रधारा स्थित कार्डीगार्ड ग्राम में जहां के लोग दूषित और संक्रमित पानी पीने को मजबूर हैं। गांव के लोगों का कहना है कि कार्डीगार्ड से डान्डा लखौंड तक दूषित और संक्रमित पानी की सप्लाई की जा रही है। गांव के लोगों का कहना है कि पिछले दो माह से मिट्टी युक्त पानी की सप्लाई हो रही है गांव के लोगों ने इसकी शिकायत जल संस्थान के अधिकारियों से भी करी लेकिन अधिकारियों द्वारा दो माह बीतने के बाद भी कोई एक्शन नहीं लिया गया। गांव वासियों ने बताया कि गांव में पेयजल आपूर्ति को विभाग द्वारा ठेके पर दिया गया है लेकिन ठेकेदार द्वारा भी लगातार शिकायतों के बाद कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है, उनका कहना है कि पेयजल आपूर्ति के लिए जो टैंक है वहीं से मिट्टी युक्त दूषित पानी की सप्लाई हो रही है, टैंक कीं सफाई नहीं की जाती है, लाख शिकायतों के बाद भी विभाग के अधिकारियों के कान पर जूं तक नहीं रेंग रही है। बहरहाल विभाग और ठेकेदार की मनमानी को लेकर क्षेत्रवासियों में खासी नाराज़गी है उनका कहना है कि अगर जल संस्थान के अधिकारी कोई एक्शन नहीं लेते हैं तो उन्हें मजबूरन मुख्यमंत्री के कार्यालय पर धरना-प्रदर्शन करने को मजबूर होना पड़ेगा।


Sources - इन्डियन आईडल ब्यूरो




Comments