सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

लगा है आना जाना..... अब टिहरी से भाजपा विधायक धन सिंह नेगी को रास आया हाथ

देहरादून: इस बार का विधानसभा चुनाव लगता है कांग्रेस और भाजपा दोनो के लिए डू एण्ड डाई बाला बन गया है। कई दिनों से लगातार कांग्रेस से भाजपा और भजपा से कांग्रेस मे आने का दौर जारी है। खैर दल-बदल की राजनीति तो आजकल सियासत की पाठशाला का ट्रेण्ड बन गया है।  लेकिन एक बात तो गौर करने वाली है कि मौजूदा सरकार के मंत्री या विधायक पार्टी छोड़ते हैं तो जाहिर सी बात है कि एक्टिंग सरकार की वापसी दोबारा असंभव बन जाती है। आज ही कांग्रेस के दिग्गज किशोर उपाध्याय जहां भाजपा कुनबे में शामिल हो गये वहीं बड़ी खबर आ रही है कि अब टिहरी विद्यायक धन सिंह नेगी कांग्रेस में शामिल हो गये। उम्मीद की जा रही है कि वे टिहरी से कांग्रेस के प्रत्याशी हो सकते हैं। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 जैसे-जैसे करीब आ रहे हैं वैसे वैसे सियासी पारा उतार-चढ़ाव पर है। वैसे भी  उत्तराखंड का मौसम और सियासत का कुछ नहीं पता चलता कब क्या हो जाये कोई नहीं जानता। 

बाटला हाउस एनकाउंटर : मौत की सजा के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचा आरिज खान

 

  


 दिल्ली के बहुचर्चित बाटला हाउस एनकाउंटर मामले के दोषी आरिज खान ने हाल ही में एक निचली अदालत द्वारा 15 मार्च, 2021 को सुनाई गई फांसी की सजा को चुनौती देते हुए दिल्ली हाईकोर्ट का रुख किया है।आरिज खान ने अपने वकील एम.एस. खान के जरिए इस साल मार्च में साकेत कोर्ट द्वारा दिए गए फैसले के खिलाफ अपील दायर की है। साकेत कोर्ट ने उसे भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 186, 333, 353, 302, 307, 174 ए, 1860 और आर्म्स एक्ट 1959 के प्रावधान के तहत दोषी ठहराया था। साकेत कोर्ट के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश संदीप यादव ने फैसला सुनाते हुए कहा था कि आरिज खान और अन्य ने जानबूझकर एनकाउंटर स्पेशलिस्ट इंस्पेक्टर मोहन चंद शर्मा की हत्या की और हेड कॉन्स्टेबल बलवंत सिंह और राजबीर सिंह को घायल कर दिया था।इसके साथ ही निचली अदालत ने दोषी के खिलाफ 11 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाते हुए निर्देश दिया था कि जुर्माने की राशि में से 10 लाख रुपये मृतक मोहन चंद शर्मा के परिवार को मुआवजे के रूप में दिए जाएं।दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने काफी तलाश के बाद आरिज खान को गिरफ्तार करने में कामयाबी पाई थी। वह कथित तौर पर आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन से जुड़ा था। दिल्ली पुलिस के अनुसार, आरिज खान 19 सितंबर, 2008 को दिल्ली के जामिया नगर में हुए एनकाउंटर के दौरान बाटला हाउस में मौजूद था, लेकिन मुठभेड़ के दौरान भागने में सफल रहा, जिसमें इंडियन मुजाहिदीन के दो संदिग्ध आतंकवादी मारे गए थे और दो अन्य को गिरफ्तार कर लिया गया था।एनकाउंटर में मारे गए संदिग्ध आतंकवादियों में आतिफ अमीन और मोहम्मद साजिद शामिल थे, जबकि गिरफ्तार किए जाने वालों में मोहम्मद सैफ और जीशान शामिल थे।गौरतलब है कि 13 सितंबर, 2008 को दिल्ली में पांच जगहों पर हुए सीरियल ब्लास्ट में कम से कम 30 लोग मारे गए थे और 100 से अधिक घायल हो गए थे। इन धमाकों के एक हफ्ते बाद बाटला हाउस एनकाउंटर हुआ था।

टिप्पणियाँ

Popular Post