उत्तराखंड : पत्नी को दिल्ली से नैनीताल लाकर किया मौत के हवाले, डेढ़ महीने बाद मिला सड़ा.गला शव

 


   दिल्ली से नैनीताल लाकर एक युवक ने अपनी पत्नी की गला दबाकर जान ले ली और शव हल्द्वानी-नैनीताल हाईवे पर बेलुवाखान के पास कलमठ में ठिकाने लगा दिया। दिल्ली पुलिस की तहकीकात में मामला डेढ़ महीने बाद खुला तो महिला का सड़ा गला शव बरामद किया गया। दुष्कर्म की सजा से बचने के लिए नौ महीने पहले महिला से शादी की गई थी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है।  नई दिल्ली निवासी एक व्यक्ति ने 15 जून को दिल्ली के द्वारिका थाने में अपनी 26 वर्षीय बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। रिपोर्ट में इस बात की आशंका जताई गई कि बेटी को उसके ससुरालियों ने ही लापता किया है। उन्होंने ससुरालियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी। शिकायत और द्वारका अदालत के आदेश पर दिल्ली पुलिस ने महिला की खोजबीन की तो 12 जून को उसके मोबाइल की लोकेशन नैनीताल-हल्द्वानी रोड पर हनुमानगढ़ी के आसपास मिली। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने उसके  ऊधमसिंह नगर निवासी पति और ससुरालियों से पूछताछ की लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा। बाद में पुलिस ने सख्ती की तो पति ने सब कुछ उगल दिया।दिल्ली पुलिस के मुताबिक पति ने बताया कि उसने 11 जून को पत्नी की गला दबाकर हत्या कर उसके शव को नैनीताल के पास एनएच के एक कमलठ में ठिकाने लगाया है। सोमवार को दिल्ली पुलिस के एसआई नरेंद्र सिंह, कांस्टेबल सुनील कुमार और शाहिद पति को साथ लेकर नैनीताल पहुंचे। उन्होंने उसकी निशानदेही पर एनएच से लगे रिया तोक के पास एक कमलठ से महिला का सड़ा गला शव बरामद कर लिया। तल्लीताल के थानाध्यक्ष विजय मेहता ने बताया कि पति के खिलाफ धारा 201 और 302 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।


दर्ज कराया था दुष्कर्म का मुकदमा


महिला और उसका पति दोनों ही शादी से पहले दिल्ली के एक शापिंग मॉल में साथ काम करते थे। यहीं से दोनों के बीच प्रेम परवान चढ़ा। जब महिला ने शादी करने को कहा तो वह बहाने बनाकर टालता रहा। आखिरकार 14 जुलाई 2020 को दिल्ली पुलिस में युवक के खिलाफ दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज करा दी। पुलिस ने युवक को गिरफ्तार कर लिया। दुष्कर्म की सजा से बचने के लिए दोनों पक्षों में समझौता हुआ। युवती ने भी शपथ पत्र देकर शादी की बात कही। अक्तूबर में दोनों ने शादी कर ली। युवक ने पुलिस को बताया कि शादी के बावजूद पारिवारिक कारणों के चलते दोनों एक दूसरे से खुश नहीं थे और आए दिन पत्नी किसी न किसी बात को लेकर झगड़ा करती थी। इसमें सास और बहू के बीच होने वाला कलह भी शामिल था। आखिरकार उसे ठिकाने लगाने का मन बना लिया।

13 किमी पैदल चलकर लगाया ठिकाने


पुलिस के मुताबिक 11 जून को पति ने महिला को बताया कि उसकी मां की तबियत खराब है और ऊधमसिंह नगर चलना है। यह कहकर वह पत्नी को लेकर दिल्ली से रवाना हो गया और नैनीताल आ गया। 12 जून को नैनीताल पहुंचने के बाद कुछ समय दोनों ने नैनीताल में बिताया और दोपहर बाद नैनीताल से पैदल ही लगभग तेरह किलोमीटर पैदल चलकर रिया गांव के पास जा पहुंचे। हनुमानगढ़ी पहुंचने के बाद पत्नी का फोन स्विच आफ हो गया। युवक ने पुलिस को बताया कि नैनीताल से हल्द्वानी की ओर जाते वक्त रास्ते में उसने पत्नी से कहा कि वह किसी सुनसान स्थान पर बैठकर प्यार भरी बातें करेंगे। इसी झांसे में वह पत्नी को राष्ट्रीय राजमार्ग में स्थित रिया गांव के समीप कलमठ के भीतर ले गया और वहां जाकर उसने हत्या कर दी। पुलिस के मुताबिक पत्नी को मौत की नींद सुलाने के बाद वह इत्मीनान से कमलठ से बाहर निकाला और वहां से किसी तरह सड़क पर पहुंचकर किसी वाहन से वापस हल्द्वानी को रवाना हो गया।