सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में वित्तीय गड़बड़ी का खुलासा

  उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार ‘सूर्यधार झील’ में वित्तीय गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। इस पर सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने इस मामले के दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि दो साल पहले जांच शुरू हुई थी, जैसा कि मालूम हो कि  29 जून 2017 को तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सूर्यधार झील के निर्माण की घोषणा की थी। 22 दिसंबर 2017 को इसके लिए 50 करोड़ 24 लाख रुपये का बजट मंजूर करा गया था। इसके बाद 27 अगस्त 2020 को सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने सूर्यधार बैराज निर्माण स्थल का निरीक्षण किया तो उनका खामियां मिलीं। मौके पर खामियां सामने आने के बाद महाराज ने जांच के आदेश दे दिए थे। मामले की जांच को 16 फरवरी 2021 को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। इस समिति ने 31 दिसंबर 2021 को शासन को रिपोर्ट सौंप दी। पर्यटन मंत्री महाराज को चार जनवरी 2022 को रिपोर्ट मिली तो उन्होंने कार्रवाई के निर्देश दे दिए। अब सिंचाई सचिव हरिचंद सेमवाल ने इस मामले में सिंचाई विभाग के एचओडी प्रमुख अभियंता इंजीनियर मुकेश मोहन को कार्रवाई करने के निर्देश

अलीगढ़ शराब कांडःसामने आया 50 हजार इनामी शराब माफिया का बीजेपी कनेक्शन

अलीगढ़ में जहरीली शराब से 23 मौतों का आरोपी व 50 हजार के इनामी ऋषि शर्मा का बीजेपी कनेक्शन भी उजागर हो गया है। हाल में ही वह पंचायत चुनाव में जवां के गांव पला कस्तली से निर्विरोध बीडीसी भी चुना जा चुका है। सोशल मीडिया एकाउंट में राज्यमंत्री संदीप सिंह सहित कई भाजपा नेताओं के साथ फोटो बयां कर रहे हैं कि किस तरह से राजनीतिक संरक्षण में अवैध शराब का कारोबार फल-फूल रहा था। अब यह फोटो खूब वायरल हो रहे हैं। अलीगढ़ शराब कांड के आरोपी जवां निवासी ऋषि शर्मा अब तक पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ा है। शुक्रवार को ही एडीजी आगरा जोन राजीव कृष्णा ने 50 हजार का इनाम घोषित किया था। ऋषि शर्मा भाजपा का सदस्य होने के साथ ही वर्तमान में सक्रिय नेताओं में से एक है। पूर्व में बसपा सरकार में दबदबा रखते हुए पत्नी रेनू जवां ब्लॉक प्रमुख का चुनाव जिताया था। बसपा के कद्दावर नेताओं में गिने जाने वाले पूर्व मंत्री जयवीर सिंह जब भाजपा में शामिल हुए तो ऋषि भी पार्टी में शामिल हो गए थे। इतना ही नहीं भाजपा शासन काल में ही उप्र सहकारी ग्राम विकास बैंक (एलडीबी) जवां का चेयरमैन भी बनाया गया था। 50 हजार के ईनामी भाजपा नेता के सोशल मीडिया एकाउंटेंट पर तमाम पोस्ट भाजपा के दिग्गज नेताओं के फोटो के साथ भरे पड़े हैं। SourceAgency News

टिप्पणियाँ

Popular Post