सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

मार्च से लगेगी 12 से 14 साल तक के बच्चों को वैक्सीन

जैसा की मालूम है कि देश में कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ टीकाकरण अभियान बहुत तेजी से चल रहा है। इसी कड़ी में 3 जनवरी से सरकार ने 15 से 18 साल के बच्चों के लिए टीकाकरण शुरू किया था। इसके अलावा 60 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए बूस्टर डोज की भी शुरुआत हो चुकी है।]  इन सबके बीच बच्चों के वैक्सीनेशन को लेकर अच्छा समाचार आ रहा है। आपको बता दें देश में मार्च महीने से 12 से 14 साल तक के बच्चों का कोरोना वैक्सीनेशन लगना शुरू हो जाएगा। इस बात की जानकारी टीकाकरण पर राष्ट्रीय तकनीकी सलाहकार समूह के प्रमुख एनके अरोड़ा ने दी। आपको बता दें कि देश में राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक कोविड.19 रोधी टीकों की 157.20 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ मनसुख मांडविया ने ट्वीट कर बताया कि 3 जनवरी से अब तक 15.18 आयु वर्ग के 3.5 करोड़ से अधिक बच्चों को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज़ लगा दी गई है।  वहीं देश में टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसने वैश्विक महामारी के खिलाफ लड़ाई को बेहद मजबूत बनाया और इसके चलते ही लो

विधानसभा चुनाव में जीत के लिए जयललिता समर्थकों को एकजुट होना चाहिए: शशिकला

चेन्नई / अन्नाद्रमुक से निष्कासित नेता वीके शशिकला ने बुधवार को पार्टी की दिवंगत प्रमुख जे जयललिता के सच्चे समर्थकों से हाथ मिलाने और आगामी तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में शानदार जीत सुनिश्चित करने की अपील की। संपत्ति मामले में चार साल कैद की सजा काटकर लौटीं शशिकला की इस अपील को चुनाव से पहले सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक के साथ मनमुटाव को खत्म करने के संकेत की तरह देखा जा रहा है। चेन्नई में पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की 73वीं जयंती के मौके पर श्रद्धांजलि देने के बाद शशिकला ने अपनी दिवंगत नेता के उन शब्दों को याद किया, जिनमें वह अन्नाद्रमुक को सदियों तक जनता की सेवा में लगे रहने की बात कहती थीं। उन्होंने कहा कि जयललिता के सच्चे समर्थकों को एकसाथ आना चाहिए और आगामी विधानसभा चुनाव में जीत का लक्ष्य तय करना चाहिए। शशिकला ने बिना किसी का नाम लिए जयललिता को श्रद्धांजलि देने पहुंचे अम्मा मक्कल मुनेत्र कझगम (एएमएमके) कार्यकर्ताओं को यह संदेश दिया। शशिकला की अपील के बारे में पूछे जाने पर उनके भतीजे एवं एएमएमके नेता टीटीवी दिनाकरन ने कहा कि उन्होंने केवल एकता पर जोर दिया है। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2017 में शशिकला और दिनाकरन को अन्नाद्रमुक से निकाल दिया गया था। वहीं, अन्नाद्रमुक के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पार्टी शशिकला को शामिल नहीं करने के अपने रुख पर कायम है और उनकी अपील एएमएमके कार्यकर्ताओं के लिए है। Sources:Agency News

टिप्पणियाँ

Popular Post