सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

इंटरनेट मीडिया से हो रहे चुनाव प्रचार में ग्रामीण भारत का एक बड़ा वर्ग अछूता

जैसा कि आपको मालूम है कि कोविड-19 की गाइडलाईन को ध्यान में रखकर चुनाव आयोग ने वर्चुअल रैली और प्रचार प्रसार के निर्देश जारी किये थे। जैसा की आपको मालूम है कि इस वक्त देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैंऔर कोरोना की वजह से न तो रैलियां हो रही हैं और न ही रोड शो के जरिये राजनीतिक दल जनता के बीच अपना शक्ति प्रदर्शन ही कर पा रहे हैं।  लिहाजा सारा चुनाव प्रचार डिजिटल प्रारूप में ही सिमट कर रह गया है। गौरतलब है कि चुनाव आयोग की पाबंदी के कारण राजनीतिक दल और नेता इंटरनेट मीडिया के विभिन्न मंचों के जरिये जनता के बीच अपनी पैठ बनाने में लगे हैं। इन्हीं मंचों पर अपनी प्रचार सामग्री को परोसकर पार्टियां चुनाव में अपनी स्थिति को मजबूत करने में जुटी हैं। मतदाताओं को लुभाने के लिए इस बार राजनीतिक पार्टियां लोकगीतों के रूप में अपने अपने प्रचार गीत बनवाकर  इंटरनेट मीडिया के मंचों पर उन्हें साझा करके जनता के दिलोदिमाग पर छा जाने को बेताब हैं। इस संग्राम में आगे निकल जाने की स्पर्धा लगभग सभी दलों में दिखाई दे रही है। ऐसे में यहां यह सवाल तैर रहा है कि लोकतंत्र के इस चुनावी त्योहार में क्या यह

अभिव्यक्ति की आजादी का गला घोट रही है भाजपा सरकार: अखिलेश यादव

लखनऊ / समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को भाजपा पर अभिव्यक्ति की आजादी का गला घोंटने और लोगों को डरा कर राजनीति करने का आरोप लगाया। विवादास्पद वेब सीरीज तांडव में हिंदू देवी-देवताओं के कथित आपत्तिजनक चित्रण के मामले में अमेजॉन प्राइम वीडियोज इंडिया ओरिजिनल्स की प्रमुख अपर्णा पुरोहित के लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में अपना बयान दर्ज कराए जाने के बाद अखिलेश ने बुधवार को ट्वीट किया। उन्होंने कहा आज जिस प्रकार भाजपा सरकार अभिव्यक्ति की आज़ादी का गला घोंट रही है, इससे दिखता है कि लोगों को डराकर राजनीति करनेवाली भाजपा ख़ुद डरी हुई है।
Akhilesh Yadav @yadavakhilesh · 5h आज जिस प्रकार भाजपा सरकार अभिव्यक्ति की आज़ादी का गला घोंट रही है, इससे दिखता है कि लोगों को डराकर राजनीति करनेवाली भाजपा ख़ुद डरी हुई है. चाहे एक ट्वीट पर गिरफ़्तारी की बात हो या फिर मनोरंजन के नाम पर बनी कोई वेबसीरीज़, महिलाओं को कमज़ोर समझकर भाजपा उन पर मुक़दमे ठोक रही है.
उन्होंने अपर्णा पुरोहित की एक तस्वीर भी टैग करते हुए ट्वीट में कहा चाहे एक ट्वीट पर गिरफ़्तारी की बात हो या फिर मनोरंजन के नाम पर बनी कोई वेबसीरीज़, महिलाओं को कमज़ोर समझकर भाजपा उन पर मुक़दमे ठोक रही है। गौरतलब है कि वेब सीरीज तांडव को लेकर उठे विवाद के मामले में दर्ज मुकदमे में अपर्णा पुरोहित ने मंगलवार को लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में अपना बयान दर्ज कराया। तांडव वेब सीरीज में हिंदू देवी देवताओं के प्रति अपमानजनक चित्रण किए जाने के आरोप में जनवरी में हजरतगंज कोतवाली में अपर्णा पुरोहित के साथ-साथ सीरीज के निर्देशक अली अब्बास, निर्माता हिमांशु कृष्ण मेहरा और लेखक गौरव सोलंकी तथा अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। नौ कड़ियों की इस वेब सीरीज तांडव में सैफ अली खान, डिंपल कपाड़िया और जीशान अय्यूब मुख्य भूमिका में हैं। उत्तर प्रदेश में लखनऊ के अलावा ग्रेटर नोएडा, शाहजहांपुर में भी वेबसीरीज के खिलाफ प्राथमिकियां दर्ज कराई गईं। Sources:Agency News

टिप्पणियाँ

Popular Post