सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

बगदाद : अल-रशद के शिया बहुल गांव में IS का हमला, 11 लोगों की मौत, 6 घायल

  बगदाद /   इस्लामिक स्टेट के कुछ बंदूकधारियों ने बगदाद के पूर्वोत्तर के एक गांव में हमला कर दिया, जिसमें कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई और छह अन्य घायल हुए हैं। इराक के सुरक्षा अधिकारियों ने यह जानकारी दी।  अधिकारियों ने बताया कि हमला दियाला प्रांत के बाकूबा के पूर्वोत्तर में अल-रशद के शिया बहुल गांव में हुआ। हमला क्यों किया गया यह अभी स्पष्ट नहीं है, लेकिन दो अधिकारियों ने बताया कि इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने पहले दो ग्रामीणों का अपहरण किया था और जब उन्हें फिरौती के पैसे नहीं दिए गए तो उन्होंने गांव पर हमला कर दिया। नाम उजागर ना करने की शर्त पर अधिकारियों ने बताया कि हमले में मशीन गन का इस्तेमाल किया गया।  हमले का शिकार बने सभी लोग आम नागरिक थे। वर्ष 2017 में देश से इस्लामिक स्टेट को खदेड़ दिए जाने के बाद से इराक में आम नागरिकों को निशाना बनाकर किए जाने वाले हमले बेहद कम हो गए हैं, हालांकि कई इलाकों में अब भी ऐसी घटनाएं देखी जा रही हैं। सुन्नी मुस्लिम चरमपंथी संगठन के आतंकवादी अब भी सक्रिय हैं, जो अक्सर सुरक्षा बलों, बिजली स्टेशनों और अन्य बुनियादी ढांचों को निशाना बनाते ह

किसान आंदोलन में जाटों के उतरने से बढ़ रही बीजेपी की टेंशन



शुक्रवार को हुई जाट महापंचायत में किसानों का समर्थन करने का फैसला लिया गया जिसमें दस हजार से ज्यादा किसानों की उपस्थिति दर्ज की गई। उत्तर प्रदेश में हुई इस बैठक में हरियाणा के कुछ जाट भी शामिल थे और कुछ दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर की तरफ बढ़ रहे थे। किसान समर्थन में जाटों का इस तरह उतरना भाजपा के लिए एक खतरे के रूप में देखा जा रहा है।किसान आंदोलन ने एक बार फिर भाजपा की मुशकिलें बढ़ा दी हैं। महापंचायत में जुटी किसानों की भारी संख्या ने सभी को चौंका कर रख दिया। राकेश टिकैत के आंसुओं को देखने के बाद हरियाणा और उत्तर प्रदेश के जाट दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंचे। यह भाजपा के लिए चिंता की बात हो सकती हैए क्योंकि जाटों का आंदोलन में इस तरह से शामिल होना राजनीतिक नुकसान पहुंचा सकता है। पार्टी इस समुदाय विशेष को अपने समर्थक के रूप में देखती हैए लेकिन अब उसे चिंता सता सकती है।भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि उन्हें डर है कि किसान आंदोलन उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में इसकी संभावनाओं को प्रभावित कर सकते हैं। एक वरिष्ठ नेता ने कहाए श्श्हम सब कुछ देख रहे हैं। अभी यह कहना भी जल्दी होगी कि हमें जाटों से समस्या होगी। हम सतर्क हैं। हमारा पार्टी के नेताओं और खाप ;कबीलेद्ध के बुजुर्गों तक पहुंचना जारी है।ष्लगभग 2 महीनों से कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली बॉर्डरों पर बैठे किसानों का आंदोलन गणतंत्र दिवस के बाद कमजोर पड़ गया। तमाम बॉर्डरों से किसान उठने लगे और वापसी की ओर बढ़ें। लेकिन तस्वीर तब बदल गई जब भारतीय किसान यूनियन के नेता के आंसू पूरे देश ने देखे। उसके बाद लोग भारी मात्रा में वापस दिल्ली बॉर्डरों पर आने लगे।शुक्रवार को हुई महापंचायत में किसानों की भारी भीड़ देखी गईए दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर भी लोगों का जमावड़ा लगा। शुक्रवार को भी किसानों का आना जारी रहा। विपक्षी दलों जैसे कांग्रेसए राष्ट्रीय लोक दल और इंडियन नेशनल लोकदल ने उन किसानों को समर्थन दिया जो कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे हैं।हालांकि भाजपा अब तक हरियाणा में असंतोष की आवाज़ों को दबाने में कामयाब रही हैए जहां वह जननायक जनता पार्टी के साथ गठबंधन सरकार चलाती हैए जो जाटों को अपने प्राथमिक वोट आधार के रूप में गिनाती है। पार्टी के नेताओं ने कहा कि यह 2016 जैसी हिंसा को फिर से देखना नहीं चाहती है जिसमें जाटों ने आरक्षण के लिए हिंसक प्रदर्शन किया था।एक दूसरे नेता ने कहाए ष्2016 के जाट आंदोलन के बावजूदए पार्टी ने हरियाणा में अपना वोट शेयर बढ़ाने में कामयाबी हासिल कीए लेकिन हालिया घटनाओं में समस्याएं पैदा करने की क्षमता है।ष्भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद अनिल जैन ने कहा कि आंदोलन राजनीति से प्रेरित है। लेकिन विशेषज्ञों ने कहा कि यह पार्टी की समस्या का समाधान नहीं है। राजनीतिक टिप्पणीकार मनीषा प्रियम ने कहा कि सिखों और जाटों का एक साथ आना एक संदेश है कि पहचान की राजनीति पर्याप्त नहीं है।


Sources:Hindustan samachar

टिप्पणियाँ

Popular Post