मिसाल: पीएचक्यू से खुद कार चला घर हुए रवाना निवर्तमान DGP अनिल रतूड़ी


उत्तराखंड के निवर्तमान पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी रिटायरमेंट के विदाई पर एक नई मिशाल पेश कर छोड़ गए। पुलिस मुख्यालय से वे खुद कार चला अकेले ही घर को रवाना हुए। उनके इस को मिशाल पेश करने पर पीएचक्यू के कई अफसर भी उनके मुरीद हो गए।


87 बैच के आईपीएस रतूड़ी सोमवार को रिटायर हो गए। उन्होंने 89 बैच के आईपीएस अशोक कुमार को नए डीजीपी का कार्यभार सौंपा। सादगी के लिए मशहूर रतूड़ी अपनी विदाई पर एक और मिशाल पेश कर छोड़ गए।


शाम को पुलिस मुख्यालय में विदाई समारोह के बाद परिसर में पुलिस अफसरों ने फूल मालाओं से लकदक सरकारी कार में उन्हें बैठा कर गेट तक धक्का देकर ले गए। गेट के बाहर रतूड़ी की अपनी निजी कार आईटेन खड़ी थी, जिसे कुछ ही फूल-मालाओं से सजाया गया था।


रतूड़ी कार के ड्राइविंग सीट पर बैठे और पुलिस अफसरों और कर्मचारियों को हाथ हिलाते हुए अकेले ही घर की तरफ रवाना हुए। आमतौर पर रिटायरमेंट पर विदाई के वक्त डीजीपी सरकारी कार,एस्कार्ट और पुलिस के लाव -लश्कर के साथ गुजरते हैं, लेकिन रतूड़ी ने इससे पूरी तरह परहेज बरतते हुए बड़ी सादगी का उदाहरण पेश किया।


उनकी पत्नी अपर मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने अपनी सादगी के लिए मशहूर हैं। इससे पूर्व पीएचक्यू में पुलिस अफसरों ने निवर्तमान डीजीपी रतूड़ी के कार्यकाल की सराहना की। इस मौके पर नव नियुक्त डीजीपी अशोक कुमार, एडीजी डा. पीवीके प्रसाद, आईजी, वी मुरुगेशन, एएसपी शाहजहां अंसारी और हेड कांस्टेबल सुरेश स्नेही ने भी विचार रखे। संचालन आईजी पुष्पक ज्योति ने किया।  

आईपीएस अंशुमान को मुख्य प्रवक्ता की जिम्मेदारी
डीजीपी अशोक कुमार ने मीडिया से बातचीत के लिए पुलिस महानिरीक्षक एपी अंशुमान को मुख्य प्रवक्ता और डीआईजी नीलेश आनंद भरणे को उप प्रवक्ता की जिम्मेदारी सौंपी है।


अपर पुलिस अधीक्षक जया बलूनी अपने दायित्वों के अतिरिक्त डीजीपी के सहायक की जिम्मेदारी भी देखेंगी। अब तक अपर पुलिस अधीक्षक शाहजहां अंसारी यह जिम्मेदारी उठा रही थी।


 


Sources:Agency News