पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री रामलाल राही का सीतापुर में निधन

 


सीतापुर / पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री रामलाल राही का गुरुवार को जिला अस्पताल में निधन हो गया। उन्हें गुरुवार सुबह 11:30 बजे जिला अस्पताल लाया गया था। जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ. एके अग्रवाल के मुताबिक उन्हें खांसी और सांस लेने में दिक्कत थी। उनका ऑक्सीजन लेबल भी 60 के आसपास था। इसी को देखते हुए उनका ट्रूनेट से कोरोना टेस्ट कराया गया। दोपहर दो बजे के करीब उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री को जिला अस्पताल के एल-टू वॉर्ड में भर्ती किया गया। शाम करीब साढ़े चार बजे के करीब राही ने जिला अस्पताल में अंतिम सांस ली।

हार्ट अटैक से हुई मौत : सीएमएस

सीएमएस डॉ. एके अग्रवाल ने बताया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री की मौत हार्ट अटैक पड़ने से हुई है। वह पहले ही हृदय रोग से पीड़ित थे। उनकी एंजियोप्लास्टी भी हो चुकी थी। हमने ऑक्सीजन लेबल कम देखकर उन्हें एल-टू में शिफ्ट किया और तत्काल ऑक्सीजन दी।

चार बार रहे सांसद

राम लाल राही पहली बार 1977 में सांसद चुने गए थे। इसके बाद वह तीन बार और सांसद रहे। 1991 में उन्हें गृह राज्य मंत्री बनाया गया। स्वर्गीय राही लंबे समय तक कांग्रेस में रहे। उनके पास कई महत्वपूर्ण पद रहे। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले वह भाजपा में शामिल हो गए थे। उनके पुत्र सुरेश राही हरगांव से भाजपा के विधायक हैं। वर्ष 2019 में लोकसभा चुनाव से पहले वह फिर कांग्रेस में शामिल हो गए। उनकी बहू मंजरी राही को कांग्रेस ने मिश्रिख सुरक्षित सीट से कांग्रेस का प्रत्याशी भी बनाया था। 

योगी ने जताया शोक

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री रामलाल राही के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि रामलाल राही एक वरिष्ठ और अनुभवी राजनेता थे। उन्होंने सांसद एवं विधायक के रूप में लंबे समय तक अपनी सेवाएं दीं। योगी ने दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हुए उनके परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है।

कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव एवं यूपी प्रभारी प्रियंका वाड्रा व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने भी गहरा शोक व्यक्त करते हुए दिवंगत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है। प्रियंका ने कहा कि उनके निधन से कांग्रेस और उत्तर प्रदेश की राजनीतिक को अपूरणीय क्षति हुई है। वे सीतापुर की हरगांव विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधायक एवं मिश्रिख लोकसभा क्षेत्र से सांसद रहे। वर्ष 1991 से 1996 तक केंद्र में गृह राज्यमंत्री रहे थे। 


Sources: जेएनएन