फर्जी तरीके से नेपाल में भारतीय आधार कार्ड बनाने वाला गैंग सक्रिय


कोरोनाकाल में नेपाल में फर्जी तरीके से भारतीय आधार कार्ड बनाने वाला गैंग सक्रिय हो गया है। कुछ समय पूर्व ही चम्पावत पुलिस को जानकारी मिली थी कि कंचनपुर जिले के महेंद्रनगर में कुछ लोग फर्जी तरीके से भारतीय आधार कार्ड  बनाने का रैकेट चला रहे हैं।


मामला संज्ञान में आते ही यहां की पुलिस ने नेपाल के अधिकारियों को इसकी जानकारी दे दी थी। हालांकि फर्जी आधार बनाने वाले लोग अब तक दबोचे नहीं गए हैं। ऐसे में अंदेशा जताया जा रहा है कि नेपाल से भारत में प्रवेश कर रहे कई लोग फर्जी आधार कार्ड का प्रयोग भी कर रहे होंगे।


कोरोना के कारण भारत-नेपाल सीमा बंद चल रही है। नेपाल में भारतीयों को बमुश्किल प्रवेश मिल रहा है। वहीं दूसरी ओर नेपाली नागरिकों को आधार कार्ड या नेपाल प्रशासन की ओर से जारी पास के जरिए भारत में आसानी से प्रवेश मिल रहा है।


हजारों पेंशनर्स को छोड़ 24 मई से अब तक करीब 11 हजार नेपाली नागरिक भारत के विभिन्न राज्यों को बनबसा से कूच कर चुके हैं। इनमें करीब 70 फीसद नेपाली नागरिक भारतीय आधार कार्ड दिखाकर इंडिया की सीमा में दाखिल हुए हैं।  


यहां भारतीयों को आधार कार्ड बनाने के लिए तमाम दस्तावेज मांगे  जाते हैं। लोग आधार के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। सवाल ये उठ रहा है कि आखिर इतनी बड़ी तादात में नेपाली नागरिकों ने भारत में आधार कार्ड कैसे बनाए होंगे।



भारत आने वाले नेपाली नागरिकों की ताजा स्थिति 
दिनांक        नेपाली 

17 नवंबर         241
18 नवंबर         340
19 नवंबर        368
20 नवंबर        380


लॉकडाउन में करीब 35 हजार नेपाली भारत के अलग-अलग राज्यों से बनबसा होते हुए अपने वतन लौटे थे। उनमें से कइयों के परिवार भारत में रह रहे हैं। उन लोगों के पास भारत की नागरिकता भी होगी। इसी के चलते नेपाल से लोग अब भारत लौट रहे हैं। नेपाल में फर्जी आधार कार्ड बनने की सूचना कंचनपुर पुलिस से साझा की गई है। सीमा पर सुरक्षा एजेंसियों और पुलिस को आधार और अन्य प्रपत्र गंभीरता से जांचने के निर्देश दिए गए हैं।


               
लोकेश्वर सिंह, एसपी चम्पावत 


Sources:Agency News