सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

इंटरनेट मीडिया से हो रहे चुनाव प्रचार में ग्रामीण भारत का एक बड़ा वर्ग अछूता

जैसा कि आपको मालूम है कि कोविड-19 की गाइडलाईन को ध्यान में रखकर चुनाव आयोग ने वर्चुअल रैली और प्रचार प्रसार के निर्देश जारी किये थे। जैसा की आपको मालूम है कि इस वक्त देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैंऔर कोरोना की वजह से न तो रैलियां हो रही हैं और न ही रोड शो के जरिये राजनीतिक दल जनता के बीच अपना शक्ति प्रदर्शन ही कर पा रहे हैं।  लिहाजा सारा चुनाव प्रचार डिजिटल प्रारूप में ही सिमट कर रह गया है। गौरतलब है कि चुनाव आयोग की पाबंदी के कारण राजनीतिक दल और नेता इंटरनेट मीडिया के विभिन्न मंचों के जरिये जनता के बीच अपनी पैठ बनाने में लगे हैं। इन्हीं मंचों पर अपनी प्रचार सामग्री को परोसकर पार्टियां चुनाव में अपनी स्थिति को मजबूत करने में जुटी हैं। मतदाताओं को लुभाने के लिए इस बार राजनीतिक पार्टियां लोकगीतों के रूप में अपने अपने प्रचार गीत बनवाकर  इंटरनेट मीडिया के मंचों पर उन्हें साझा करके जनता के दिलोदिमाग पर छा जाने को बेताब हैं। इस संग्राम में आगे निकल जाने की स्पर्धा लगभग सभी दलों में दिखाई दे रही है। ऐसे में यहां यह सवाल तैर रहा है कि लोकतंत्र के इस चुनावी त्योहार में क्या यह

बीएसएफ ने पंजाब में पाकिस्तान के साथ लगी सीमा के पास ड्रोन को मार गिराया



 नयी दिल्ली / सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने पंजाब में भारत एवं पाकिस्तान की सीमा के पास एक ड्रोन को मार गिराया। बीएसएफ ने शनिवार को यह जानकारी दी। बल ने एक बयान में बताया फिरोजपुर सेक्टर में वान सीमा चौकी के पास चीन निर्मित ड्रोन को शुक्रवार रात करीब 11 बजकर 10 मिनट पर ‘‘देखा गया और मार गिराया गया’’। बल ने एक बयान में बताया कि अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगभग 300 मीटर और सीमा बाड़ से 150 मीटर की दूरी पर काले रंग की उड़ने वाली वस्तु को मार गिराया गया।उसने बताया कि चार पावर बैटरी वाले हेक्सा-कॉप्टर ड्रोन का वजन लगभग 23 किलोग्राम था और यह लगभग 10 किलोग्राम वजन ले जाने में सक्षम था। उसने बताया कि बहरहाल, ड्रोन पर नशीले पदार्थ, हथियार या गोला-बारूद नहीं था। बीएसएफ ने कहा कि जिस इलाके में ड्रोन को मार गिराया गया, वहां तलाश अभियान जारी है। इससे पहले भी बल ने पाकिस्तान से आए इस प्रकार के दो ड्रोन मार गिराए थे, जिनमें हथियार और गोला-बारूद थे।ये दोनों ही घटनाएं पंजाब के सीमावर्ती इलाकों में हुई थीं। बीएसएफ के महानिदेशक पंकज कुमार सिंह ने 30 नवंबर को संवाददाताओं से कहा था कि पंजाब और जम्मू में सीमा के पास इस साल अब तक कम से कम 67 ड्रोन देखे गए हैं। सिंह ने बीएसएफ के 57वें स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर कहा था, “अभी हमारे देश में आने वाले ड्रोन की संख्या कम है और यह सभी चीन में निर्मित ड्रोन हैं… ये बहुत उन्नत हैं और कम वजन उठाने में सक्षम हैं तथा 95 प्रतिशत मामलों में ये मादक पदार्थ लेकर आते हैं।

टिप्पणियाँ

Popular Post