सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

चार दिनों में 2500 अंक से ज्यादा गिरा सेंसेक्स, इनवेस्टर्स के डूबे 8 लाख करोड़

  शेयर बाजार में लगातार गिरावट जारी है और हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिनों में भी ये गिरावट देखने को मिल रही है। जिसकी वजह से इक्विटी निवेशकों की संपदा में 8 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की कमी दर्ज की गई है। शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में बीएसई सेंसेक्स करीब 700 अंक टूटा। पहले मिनट में निवेशकों के करीबन 2.5 लाख करोड़ रुपए डूब गए। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 194.10 अंक या 1.09 प्रतिशत की गिरावट के साथ 17,562.90 पर कारोबार कर रहा था। दूसरी तरफ पॉवरग्रिड और एचयूएल के शेयर लाभ में रहे। पिछले सत्र में तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 634.20 अंक यानी 1.06 प्रतिशत लुढ़ककर 59,464.62 पर बंद हुआ। ऐसे आपको इस गिरावट के प्रमुख कारणों से अवगत कराते हैं।  वैश्विक बाजारों में नकारात्मक रूख और विदेशी पूंजी की निरंतर निकासी के कारण से दुनिया भर के बाजार गिरावट में हैं। अमेरिका की फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बढोतरी की उम्मीद में ग्लोबल बॉन्ड यील्ड में उछाल की वजह से निवेशक जोखिम लेने से बच रहे हैं और जिसकी वजह से अपने पोर्टफोलियो में कम रिस्की असेट्स शामिल कर रहे हैं।  न केवल अमेरिका में

देहरादून में आज तीन डिग्री तक पहुंच सकता है पारा

 


 देहरादून और आसपास के इलाकों में आज शनिवार को न्यूनतम तापमान तीन डिग्री तक पहुंच सकता है। इसके कारण रात को होने वाली ठंड में इजाफा हो सकता है। शनिवार को देहरादून में सुबह धूप खिली, लेकिन धूप में गरमाहट न के बराबर रही। जहां एक ओर पहाड़ी इलाकों में धूप खिली रही तो मैदानी इलाकों में कोहरा छाया रहा और शीत लहर का प्रकोप जारी रहा।हरिद्वार और कोटद्वार के मैदानी इलाकों में शीतलहर का प्रकोप है। चमोली जिले के कई गांवों में पानी की लाइन जम गई हैं। वहीं मौसम विभाग ने आज सभी क्षेत्रों में सामान्य से चार से पांच डिग्री तक कम तापमान रहने का अनुमान जताया है।बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग गोविंद घाट के पास पिनोला के समीप भारी मात्रा में मलबा आने से बंद हो गया है। एनएच के द्वारा सड़क कटिंग का कार्य किया जा रहा था। इस दौरान पहाड़ों से भारी मात्रा में बोल्डर और पत्थर गिरकर सड़क पर आ गए, जिससे मार्ग पूर्ण तरीके से आवागमन के लिए बंद हो गया है। पांडुकेश्वर, गोविंदघाट , लामबगड़, हनुमान चट्टी जाने वालों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।मौसम विभाग केंद्र देहरादून ने शीतलहर की आशंका जताते हुए यलो अलर्ट जारी किया है। केंद्र के अनुसार अगले चार पांच दिन शीतलहर और पाला गिरने से कड़ाके की ठंड रहने के आसार हैं। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह के अनुसार शनिवार से शीतलहर शुरू हो जाएगी। गुरुवार को दिन के तापमान में भी गिरावट आई और तापमान 19.2 डिग्री रिकॉर्ड किया गया। यह सामान्य से दो डिग्री कम था। वहीं, रात का तापमान 5.2 डिग्री रहा। दिन और रात के तापमान में आई कमी के कारण ठंड में अच्छा खासा इजाफा हो गया। वहीं, मौसम विभाग ने आज अधिकतम तापमान 20 और न्यूनतम तापमान तीन डिग्री के आसपास रहने का अनुमान जताया है। इससे लोगों को दिन और रात में भीषण ठंड से जूझना पड़ सकता है। मौसम केंद्र के अनुसार राज्य में कई स्थानों पर शीत लहर रहने का अनुमान है। विशेषकर पर्वतीय क्षेत्रों में ठंड परेशान कर सकती है। राज्य के मुक्तेश्वर पहाड़ी क्षेत्रों में पाला गिरने और मैदानी क्षेत्रों में कोहरा छाए रहने की भी संभावना है। राजधानी दून के अलावा पंतनगर में तापमान दो डिग्री, मुक्तेश्वर में सात डिग्री तक कम बना हुआ है। मुक्तेश्वर में रात का तापमान शून्य के आसपास पहुंच गया। शुक्रवार को न्यूनतम और अधिकतम पारे में गिरावट व शीत लहर ने हरिद्वार शहर से देहात तक लोगों की कंपकंपी छुड़ा दी। सुबह से शुरू हुआ ठंड का कहर दिन चढ़ने के बाद भी कम नहीं हुआ। दोपहर बाद तो और बुराहाल हो गया। हवाओं ने लोगों को परेशान करना शुरू कर दिया। सड़कों पर अन्य दिनों की अपेक्षा कम लोग नजर आए। अधिकांश लोग अपने घरों में दुबक गए। मौसम विभाग के मुताबिक आगामी दिनों में शीत लहर से लोगों की मुश्किलें और अधिक बढ़ेंगी।शुक्रवार सुबह से आसमान में हल्के बादल छाए हुए थे। अन्य दिनों की अपेक्षा सुबह से ज्यादा ठंड का अहसास हो रहा था।  सुबह के समय सूरज के दर्शन नहीं होने से ठंड से गलन बढ़ने लगी। दस बजे के बाद हल्की धूप निकली पर वह बेअसर साबित हुई। शुक्रवार को लोगों ने अन्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा गरम कपड़े पहने थे। इसके बाद भी कोई राहत नहीं मिली। कड़ाके की ठंड का अंदाज इसी बात से लगाया जा सकता है कि हाथों की अंगुलियां काम नहीं कर रही थी।शाम के समय हवाएं चलने से लोगों की दिक्कतें और बढ़ गई। मुख्य बाजारों में कम लोगों की आवाजाही देखी गई। रात होते ही प्रमुख सड़कों और गंगा घाटों पर सन्नाटा पसरने लगा था। दुकानों पर व्यापारियों को हीटर का सहारा लेना पड़ा। दूसरी तरफ देहात में भी ठंड से जनजीवन प्रभावित हुआ।किसानों को खेतीबाड़ी के काम के साथ अपने पशुओं के चारे का इंतजाम करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 22.5 डिग्री और न्यूनतम 4.5 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड हुआ है। मौसम विभाग के शोध पर्यवेक्षक नरेंद्र रावत के मुताबिक आने वाले दिनों में ठंड और बढ़ेगी। 



टिप्पणियाँ

Popular Post