सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

इंटरनेट मीडिया से हो रहे चुनाव प्रचार में ग्रामीण भारत का एक बड़ा वर्ग अछूता

जैसा कि आपको मालूम है कि कोविड-19 की गाइडलाईन को ध्यान में रखकर चुनाव आयोग ने वर्चुअल रैली और प्रचार प्रसार के निर्देश जारी किये थे। जैसा की आपको मालूम है कि इस वक्त देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैंऔर कोरोना की वजह से न तो रैलियां हो रही हैं और न ही रोड शो के जरिये राजनीतिक दल जनता के बीच अपना शक्ति प्रदर्शन ही कर पा रहे हैं।  लिहाजा सारा चुनाव प्रचार डिजिटल प्रारूप में ही सिमट कर रह गया है। गौरतलब है कि चुनाव आयोग की पाबंदी के कारण राजनीतिक दल और नेता इंटरनेट मीडिया के विभिन्न मंचों के जरिये जनता के बीच अपनी पैठ बनाने में लगे हैं। इन्हीं मंचों पर अपनी प्रचार सामग्री को परोसकर पार्टियां चुनाव में अपनी स्थिति को मजबूत करने में जुटी हैं। मतदाताओं को लुभाने के लिए इस बार राजनीतिक पार्टियां लोकगीतों के रूप में अपने अपने प्रचार गीत बनवाकर  इंटरनेट मीडिया के मंचों पर उन्हें साझा करके जनता के दिलोदिमाग पर छा जाने को बेताब हैं। इस संग्राम में आगे निकल जाने की स्पर्धा लगभग सभी दलों में दिखाई दे रही है। ऐसे में यहां यह सवाल तैर रहा है कि लोकतंत्र के इस चुनावी त्योहार में क्या यह

देहरादून : उत्‍तराखंड से मेरा और मेरे परिवार का है कुर्बानी का रिश्‍ता : राहुल गांधी

 


 देहरादून  /  आज देहरादून में कांग्रेस की विजय सम्‍मान रैली में कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि उत्तराखंड से मेरा पुराना रिश्ता है। कहा मैंन दून स्कूल में पढ़ा हूं। मेरे परिवार और उत्तराखंड का रिश्ता है। मेरी दादी और पिता देश के लिए शहीद हुए, जो कुर्बानी उत्तराखंड के लोग ने दी, मेरे परिवार ने भी दी है। उत्तराखंड के सैन्य परिवार इस रिश्ते को अच्छी तरह समझते हैं। जिस परिवार, व्यक्ति ने कुर्बानी नहीं दी, वे कभी नहीं समझ सकते।राहुल गांधी ने कहा कि उत्तराखंड ने देश को सबसे ज्यादा खून दिया है। 1971 के युद्ध का उल्लेख करते हुए उन्‍होंने कहा कि भारत ने पाकिस्तान को 13 दिन में हरा दिया। हिंदुस्तान के हर व्यक्ति, जाति, धर्म के व्यक्तियों ने मिलकर पाकिस्तान को हराया। पाकिस्तान बंटा हुआ था, कमजोर था, इसलिए पराजित हुआ। भारत एक साथ मिलकर खड़ा था।राहुल ने कहा कि आज देश को बांटा जा रहा है, कमजोर किया जा रहा है। एक भाई को दूसरे भाई से लड़ाया जा रहा है। पूरी सरकार दो तीन पूंजीपतियों के लिए चलाई जा रही है। राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री कृषि कानून पर कहते हैं कि गलती हो गई, सरकार ने जान गंवाने वाले किसानों को मुआवजा तक नहीं दिया। दो तीन उद्योगपतियों के लिए ये सब किया जा रहा था।सैनिक बहुल प्रदेश उत्तराखंड में राहुल गुरुवार से चुनावी जंग का आगाज करने जा रहे हैं। पार्टी ने राहुल की रैली के लिए दिन का चयन सोच-विचारकर किया है। कांग्रेस सैन्य मतदाताओं में अपनी छवि सुधारने की कोशिश में जुटी है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने बताया कि परेड मैदान में कांग्रेस की विजय सम्मान रैली सुबह 11 बजे से प्रारंभ होगी। राहुल गांधी करीब 12 बजे रैली में भाग लेने पहुंचेंगे। इस मौके पर उन पूर्व सैनिकों का सम्मान किया जाएगा, जो 1971 के बांग्लादेश युद्ध में शामिल हुए थे। पूर्व सैनिकों और उनके स्वजन समेत करीब 60 व्यक्तियों को सम्मानित किया जाएगा।

टिप्पणियाँ

Popular Post