सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

देहरादून : सीएम ने परेड ग्राउंड का लिया जायजा, पीएम दून जनसभा में 30 हजार करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात

    देहरादून /  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चार दिसंबर को उत्तराखंड के दौरे पर रहेंगे। वे देहरादून में जनसभा को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी के दौरे को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी तैयारियों का जायजा लेने परेड ग्राउंड पहुंचे। इस दौरान उन्होंने जिला प्रशासन को समय से सभी व्यवस्थाओं को पूरा करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री धामी ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी अपने दौरे के दौरान 30 हजार करोड़ रुपये की योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया जाएगा। इस दौरान कैबिनेट मंत्री डा. धन सिंह रावत, भाजपा संगठन महामंत्री अजय कुमार, प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, आइजी इंटेलीजेंस संजय गुज्याल, जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार, एसएसपी जन्मेयजय खंडूड़ी और अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद रहे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रस्तावित जनसभा को लेकर जिला प्रशासन हाई अलर्ट मोड में है। शनिवार को जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जन्मेजय खंडूड़ी समेत तमाम अधिकारियों ने परेड ग्राउंड का सघन निरीक्षण किया है। प्रशासन की मशीनरी दिनभर यह तय करने में जुटी रही कि परेड ग्राउंड को जनसभा के लिए किस तरह तैयार करना ह

देहरादून: चार साल में दूर नहीं हो पाई सीवर लाइन की खामी

 

 


 देहरादून /  दून के प्रवेश स्थल आइएसबीटी पर व्यवस्था का ऐसा सच देखकर यात्री एक पल में ही दून के प्रति अपनी छवि बना लेते हैं। अंतर यह है कि यदि छवि सुंदर दून की जगह बदहाल दून की होती है। क्योंकि दून शहर की तरफ आने वाली सर्विस लेन पर जब-तब सीवर बहता रहता है और सीवर का चैंबर गड्ढे के रूप में तब्दील हो गए हैं। इसके चलते आए दिन यहां पर कभी कार का निचला हिस्सा टकरा जाता है, तो कभी दुपहिया वाहन रपट जाते हैं।करीब चार साल पहले इस हिस्से पर एडीबी के तहत उत्तराखंड अर्बन सेक्टर डेवलपमेंट एजेंसी (यूयूएसडीए) ने सीवर लाइन बिछाई थी। निर्माण के समय से सीवर लाइन में त्रुटि रह गई है। शिमला बाईपास चौक की तरफ से एक ढाल लिए सीवर लाइन आ रही है, मगर आइएसबीटी चौक से पहले इसका ढाल नियमों के अनुरूप नहीं है। इसके चलते लाइन में जब भी सीवर का लोड बढ़ता है तो वह इस चैंबर से बाहर निकलने लगता है। इस चैंबर से अक्सर सीवर निकलता दिख जाएगा। इससे न सिर्फ दुर्गंध उठती रहती है, बल्कि सड़क के पैच भी टिक नहीं पाते। वाहन चालकों से लेकर राहगीरों तक को यहां से निकलने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है।सीवर लाइन में तकनीकी खामी रह जाने के चलते जल संस्थान भी इस समस्या को दूर करने में बेबस दिख रहा है। जब भी सीवर ओवरफ्लो होता है तो जल संस्थान के अधिकारी इसकी सफाई करा देते हैं। बार-बार की समस्या के चलते सीवर लाइन के चैंबर को भी स्थायी रूप में बंद नहीं किया जा रहा। ऐसे में यहां पर कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। जब तक सीवर लाइन की त्रुटि दूर नहीं कर दी जाती, तब तक जनता को राहत नहीं मिलने वाली। जल संस्थान पित्थूवाला जोन के अधिशासी अभियंता राजेंद्र पाल का कहना है कि सीवर लाइन की त्रुटि दूर करने के प्रयास किए जा रहे हैं। तब तक यहां लाइन की नियमित सफाई कराई जा रही है।यह सड़क राष्ट्रीय राजमार्ग खंड डोईवाला के अधीन है। सड़क पर बार-बार सीवर बहने के चलते गड्ढों की समस्या को देखते हुए राजमार्ग खंड के अधिकारी भी परेशान हैं। इसको लेकर खंड ने जल संस्थान को पत्र भी लिखा है। राजमार्ग खंड की अधिशासी अभियंता रचना थपलियाल का कहना है कि जब तक सीवर की समस्या का हल नहीं हो जाता, तब तक सड़क लंबे समय तक ठीक नहीं रह सकती है।

टिप्पणियाँ

Popular Post