सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

हंगामा: रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में वेटरों की यूनिफार्म से आहत संतो ने दी मोदी सरकार को दी चेतावनी

 


 भोपाल / मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन में वेटरों के यूनिफॉर्म का संतों ने विरोध करना शुरू कर दिया है। संत अवधेश पूरी ने रेल मंत्री अश्विन वैष्णव को पत्र लिखकर ड्रेस का कलर बदलने की मांग की है। उन्होंने ट्रेन में वेटरों का स्वरूप देना संतो का अपमान बताया और यहां तक ट्रेन रोकने की भी चेतावनी दी है।दरअसल उज्जैन के परमहंस डॉ. अवधेशपुरी ने रेल मंत्री अश्विन वैष्णव को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि केन्द्र में धार्मिक पार्टी यानी बीजेपी की सरकार है। देश के यशश्वी प्रधानमंत्री मोदी का संतों के प्रति व हिन्दूधर्म और भगवान राम के प्रति अगाध निष्ठा रखते हैं। लेकिन उनके शासनकाल में और आप के कार्यकाल में ‘रामायण सर्किट एक्सप्रेस’ में साधु-संतों की वेशभूषा में वेटरों द्वारा यात्रियों को भोजन परोसवाना, उनकी झूठ उठाते हुए दिखाना घोर निंदनीय और असहनीय है। शायद आपकी आत्मा भी इस कृत्य को स्वीकार नहीं करेगी।वहीं धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से आईआरसीटीसी की ओर से रामायण सर्किट एक्सप्रेस चलाई जा रही है। ट्रेन 7 नवंबर को प्रारंभ हुई जो कि भगवान राम से जुड़े हुए 15 स्थलों का भ्रमण करते हुए 7,500 किमी की यात्रा तय करेगी। उस ट्रेन में अयोध्या से रामेश्वरम के मध्य का यह दुर्भाग्यपूर्ण वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।इसी कड़ी में परमहंस डॉ. अवधेशपुरी ने रेल मंत्री से मांग की है कि 12 दिसंबर को शुरू होने वाली दूसरी यात्रा से पूर्व वेटरों की वेशभूषा में परिवर्तन किया जाए। अन्यथा देश के वरिष्ठ साधु संतों को मजबूरन रामभक्तों को साथ लेकर ट्रेन की पटरी पर बैठकर ट्रेन को रोकना पड़ेगा।

टिप्पणियाँ

Popular Post