सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

उत्तराखंड : डेंगू के बाद जीका वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग का अलर्ट

 


 कानपुर सहित उत्तर प्रदेश के कुछ जिलों में जीका वायरस के संक्रमितों का आंकड़ा बढ़ रहा है। इसको देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने भी कमर कस ली है। डेंगू की तरह लोगों को बीमार करने वाले जीका वायरस के खात्मे के लिए स्वास्थ्य विभाग ने सभी उत्तराखंड में स्वास्थ्य केंद्रों को निर्देश दिए गए हैं। सीएमओ डॉ. सुनीता चुफाल ने सभी ब्लॉकों को दोबारा फागिंग कराने के साथ ही स्वच्छता बरकरार रखने के निर्देश दिए हैंउन्होंने घरों में छिड़काव के साथ ही साफ-सफाई रखने के लिए जागरूक भी किया है। इस दौरान डॉ. अविनाश खन्ना ने बताया कि जीका वायरस की बीमारी डेंगू की तरह ही होती है। इसमें कुछ ही अंतर होता है। उन्होंने बताया कि डेंगू एनाफिलीज मच्छर के काटने से होता है और जीका वायरस इसकी दूसरी प्रजाति एडीज एल्वोपिक्स है। इसमें भी शरीर का तापमान बढ़ जाता है और कमजोरी महसूस होती है।इसमें रोगियों में बुखार, चक्कते, जोड़ों और आंखों के पीछे दर्द और उल्टी जैसी दिक्कत हो सकती है। ऐसे ही लक्षण आमतौर पर डेंगू में भी होते हैं। यही कारण है कि लोगों के लिए इन दोनों में अंतर कर पाना कठिन हो जाता है। यह वायरस महिलाओं को अधिक चपेट में ले रहा है।उन्होंने बताया कि खटीमा में डेंगू के मरीज निकलने के बाद स्वास्थ्य विभाग काफी अलर्ट हो गया है।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव