सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

मेरठ: नहीं होगी ओवैसी की सभा,पुलिस.प्रशासन से नहीं मिली अनुमति

 


मेरठ में आज यानी शनिवार को होने वाली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी की चुनावी सभा कैंसिल हो गई है।सभा को पुलिस-प्रशासन ने इजाजत नहीं दी है। रात के समय पुलिस ने अनुमति नहीं होने का हवाला देकर टेंट और व्यवस्था को हटाने का काम शुरू कर दिया। इस दौरान पार्टी कार्यकर्ताओं ने विरोध कर हंगामा कर दिया। देर रात तक पार्टी जिलाध्यक्ष और हैदराबाद के पूर्व मेयर ओवैसी की सभा की अनुमति के लिए नौचंदी थाने में चक्कर काटते रहे। पुलिस, प्रशासन ने अनुमति नहीं दी और देर रात सभा कैंसिल कर दी।

पार्टी के जिलाध्यक्ष नौशाद ने बताया कि शहर के प्रमुख नौचंदी मैदान में ओवैसी जनसभा करने वाले थे। जिसको लेकर पिछले 7 से 10 दिनों से पार्टी कार्यकर्ता जनसभा की अनुमति के लिए दफ्तरों के चक्कर काट रहे थे। जिलाध्यक्ष ने कहा कि हमने परमिशन के लिए आवेदन भी दिया था। पहले नगर निगम के पास नौचंदी मैदान में सभा की अनुमति लेने गए तो वहां से जिला पंचायत भेज दिया। जिला पंचायत गए तो उन्होंने नौचंदी थाने जाने को कह दिया। हमें बेवजह घुमाया गया और अंत तक भी अनुमति नहीं दी गई।आवेदन के बाद भी सभा की अनुमति न मिलने से नाराज कार्यकर्ताओं ने इसे प्रशासन की साजिश बताया है। हालांकि, जानकारी के अनुसार सभा कैंसिल होने के बाद भी ओवैसी मेरठ आएंगे और लोगों से मिलेंगे।

सभा की अनुमति लेने के लिए पार्टी जिलाध्यक्ष और हैदराबाद के पूर्व मेयर मजीद हुसैन कार्यकर्ताओं के साथ नौचंदी थाने में बैठे रहे। पुलिस ने NOC न होने के कारण आयोजन कैंसिल करा दिया। मैदान में जनसभा के लिए लगा टेंट भी उखाड़ दिया। लगभग 7 दिन पहले ही ओवैसी का 13 नवंबर को मेरठ आना तय हो गया था। पुलिस ने तर्क दिया कि यहां कोई जनसभा कराने की अनुमति नहीं है, इसलिए कोई कार्यक्रम नहीं होगा। इसी सूचना पर एआईएमआईएम के पूर्व मेयर मजीद,यूपी प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली समेत दर्जनों पदाधिकारी मौके पर पहुंचे। हंगामा हो गया और इसके बाद सभी पदाधिकारियों ने थाने पहुंचकर धरना दे दिया। 

एसपी सिटी मेरठ विनीत भटनागर ने कहा, 'नौचंदी ग्राउंड में सभा करने के लिए कोई अनुमति नहीं ली गई है। वैसे भी इस जगह को लेकर नगर निगम और जिला पंचायत दोनों का ही अधिकार को लेकर विवाद चल रहा है। ऐसे में प्रशासनिक स्तर पर कोई अनुमति नहीं है। हमारी ओर से एआईएमआईएम नेताओं से बात की गई है कि कोई अन्य जगह चिन्हित कर वहां सभा करा लें। इसके लिए पुलिस भी मदद करेगी। सभा रोकने या नहीं होने देने जैसी कोई बात नहीं है।'

टिप्पणियाँ

Popular Post