सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

नौ नवम्बर को योगी जी का बदायूं आगमन,रद हुईं अफसरों की छुट्टियां

 


 बदायूं  /   विधानसभा चुनाव से पहले हर जिले का दौरा कर रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नौ नवंबर को बदायूं आएंगे। कार्यक्रम तो अभी जारी नहीं हुआ है, लेकिन शासन से मिले मौखिक निर्देशों के क्रम में सहसवान में संभावित कार्यक्रम की तैयारी शुरू करा दी गई है। प्रमोद इंटर कालेज में शिलान्यास, लोकार्पण के साथ जनसभा की बात कही जा रही है। जिलाधिकारी दीपा रंजन और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा.ओपी सिंह बुधवार को सहसवान पहुंचे।


 हेलीपैड से लेकर मंच बनवाने को जगह भी देखी। सीएम के कार्यक्रम को देखते हुए अधिकारियों की छुट्टियां रद कर दी गई हैं और उन्हें पांच नवंबर से ही काम पर लौटने के आदेश दिए गए हैं।प्रदेश में सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री 2018 में जिले के दौरे पर आए थे। उस समय कलक्ट्रेट में अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी और वापस लौट गए थे। विधानसभा चुनाव की आहट सुनाई पड़ने लगी है। मतदाता सूची का पुनरीक्षण अभियान भी शुरू हो चुका है। इस बीच मुख्यमंत्री के दौरे के संकेत मिल गए हैं। पिछले दिनों उत्तराखंड में हुई भारी बारिश के चलते यहां गंगा और रामगंगा नदियों में बाढ़ आई थी, इससे दातागंज और सहसवान विधानसभा क्षेत्र के गांव प्रभावित हुए हैं। 


बाढ़ प्रभावित गांवों में हुए नुकसान का सर्वे भी कराया जा चुका है, अब तक नौ करोड़ की क्षति का आकलन किया गया है। माना जा रहा है कि विभिन्न परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण के साथ वह बाढ़ पीड़ितों को मुआवजा भी वितरित कर सकते हैं। डीएम ने बताया कि मुख्यमंत्री के नौ नवंबर को सहसवान में आने का कार्यक्रम है। खुद आयोजन स्थल का जायजा लिया है, तैयारी शुरू कर दी गई है। डीएम दीपा रंजन और एसएसपी डा.ओपी सिंह के बुधवार को अचानक सहसवान पहुंचने से अधिकारियों में अफरा-तफरी मच गई। बताया गया कि नौ नवंबर को यहां मुख्यमंत्री का कार्यक्रम लग रहा है। प्रमोद इंटर कालेज के मैदान में तैयारी शुरू करा दी गई है। इस दौरान उप जिलाधिकारी महीपाल सिंह, एआरटीओ सुहेल अहमद, तहसीलदार शिवओम शर्मा, सीओ अनिरूद्ध सिंह, कोतवाल संजीव शुक्ला भी मौजूद रहे। जिले की छह सीटों में सहसवान पर सपा काबिज जिले की छह विधानसभा सीटें हैं।


 सदर, दातागंज, शेखूपुर, बिल्सी और बिसौली सीट पर भाजपा के विधायक हैं। सिर्फ सहसवान सीट पर सपा काबिज है। मुख्यमंत्री का दौरा सहसवान में लगने को इसे भी प्रमुख वजह माना जा रहा है। पिछली बार जब मोदी लहर में जिले की पांच सीटों पर भगवा लहराया था और सहसवान में साइकिल आगे निकल गई थी तब भी चिता जताई गई थी। सहसवान का दौरा कर मुख्यमंत्री इस सीट पर भी पार्टी की पकड़ मजबूत करने की कोशिश करेंगे। सीएम के कार्यक्रम को लेकर भाजपा में भी हलचलमुख्यमंत्री के कार्यक्रम की भनक लगते ही भाजपा में भी हलचल तेज हो गई है। दीपावली के तत्काल बाद मुख्यमंत्री का कार्यक्रम है, इसलिए जन प्रतिनिधियों के साथ पार्टी के पदाधिकारी भी चौकन्ना हो गए हैं। विकास कार्यों में जहां कमियां रह गई हैं उन्हें सीएम के आने से पहले पूर्ण कराने की कोशिश की जाने लगी है। भाजपा जिलाध्यक्ष राजीव कुमार गुप्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री का सहसवान में कार्यक्रम लग रहा है। पार्टी के स्तर से भी तैयारी शुरू कर दी गई है।

टिप्पणियाँ

Popular Post