सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

ककोड़ा मेला की तैयारिया शुरू : बसेगा गंगा की रेत पर तंबुओं का शहर

 


  बदायूं  /  रुहेलखंड के मिनी कुंभ मेला ककोड़ा लगवाने का रास्ता साफ हो चुका है। मुख्य स्नान पर मेले में लाखों की भीड़ जुटनी तय मानी जा रही है। जिलाधिकारी दीपा रंजन और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा.ओपी सिंह ने ट्रैक्टर-ट्राली से गंगा किनारे आयोजन स्थल का जायजा लिया। अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत को निर्देशित किया कि टीम लगाकर जल्द से जल्द काम पूरा कराएं।कोरोना महामारी से राहत मिलने के बाद धार्मिक आयोजनों को छूट मिल चुकी है। शासन से भी ककोड़ा मेला लगवाने की अनुमति गई है। 


पिछले दिनों गंगा में आई बाढ़ के चलते अधिकारी मेला लगवाने से पीछे हटने लगे थे। कुर्मी समाज, सामाजिक और राजनीतिक संगठनों का दबाव बढ़ने पर जन प्रतिनिधि भी सक्रिय हुए। नगर विकास राज्यमंत्री महेश चंद्र गुप्ता, जिला पंचायत अध्यक्ष वर्षा यादव, शेखूपुर विधायक धर्मेंद्र कश्यप खुद गंगा की कटरी में पहुंचे और हालात का जायजा लेने के बाद मेला लगवाने पर सहमति दी। मंगलवार को डीएम और एसएसपी दोबारा हालात का जायजा लेने पहुंचे। पहली बार गए थे तो रास्ते में पानी भरा होने से वापस लौट आए थे, लेकिन इस बार ट्रैक्टर-ट्राली से गंगा घाट तक पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। 


डीएम और एसएसपी ने अपर मुख्य अधिकारी सत्यपाल सिंह पालीवाल को साफ निर्देश दिए कि अब तत्काल काम शुरू करवा दें। जल्द से जल्द कच्चा मार्ग बनवाकर आयोजन स्थल का समतलीकरण करवाएं। स्नान घाट पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कराएं। इस दौरान एसपी ग्रामीण सिद्धार्थ वर्मा, अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत सत्यपाल सिंह पालीवाल, तहसीलदार सदर करनवीर सिंह एवं जिला पंचायत के इंजीनियर मौजूद रहे। यातायात व्यवस्था प्रशासन के लिए रहेगी चुनौतीककोड़ा मेला के इंतजाम में आवागमन के लिए कच्चा मार्ग व्यवस्थित और चौड़ा होना जरूरी है।


 सीमित समय में तैयारी कराई जा रही है, इसलिए यातायात व्यवस्था प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती रहेगी। अगर मार्ग चौड़ा नहीं हुआ तो जाम की समस्या गंभीर हो सकती है। पिछली बार जब मेला लगा था तब आने-जाने के लिए अलग-अलग सड़क बनवाई गई थी। ्रककोड़ा मेला लगवाने के लिए गंगा के किनारे चयनित जगह का खुद निरीक्षण किया है। आयोजन स्थल पर पानी सूख चुका है, कुछ स्थानों पर पानी है वह भी जल्द सूख जाएगा। जिला पंचायत के अधिकारियों को तेजी से मेले की तैयारी करने के निर्देश दिए हैं। गंगा तट पर भव्य मेले का आयोजन कराया जाएगा।

- दीपा रंजन, जिलाधिकारी

टिप्पणियाँ

Popular Post