लखीमपुर : ग‍िरफ्तारी तक जारी रहेगा संघर्ष,अनशन पर बैठे कांग्रेस नेता नवजोत सि‍ंह सिद्धू

 


  लखीमपुर /  कृषि कानून विरोधी आंदोलन में मारे गए आठ लोगों के परिवारजन से अपना स्नेह दिखाने आए पंजाब के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सि‍ंह सिद्धू ने पीडि़त परिवारों से मुलाकात कर निघासन में दिवंगत पत्रकार रमन कश्यप के घर के बाहर मौन धरना देना शुरू कर दिया। निघासन में शुक्रवार शाम दिवंगत पत्रकार रमन कश्यप के घर पहुंचे नवजोत सि‍ंह सिद्धू ने परिजनों से कहा कि कांग्रेस पार्टी आपके साथ है व आपकी हर सम्भव मदद भी करेगी। सिद्धू ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मेरे लिए संविधान से बड़ा कुछ नहीं उसी संविधान का कत्ल करने का प्रयास किया गया है। यहां इंसानियत मर चुकी है जिस प्रकार किसानों के ऊपर पीठ पीछे से सोच समझकर तेज गति में गाडिय़ां चढ़ाई गई है ये इंसानियत का कत्ल है। आरोप लगाया कि किसान आंदोलन में हुई घटना के तमाम साक्ष्य व वीडियो होने के बावजूद भी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के बेटे आशीष को गिरफ्तार नही किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक मंत्री के बेटे को गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक न कुछ खाएंगे और न कुछ पिएंगे। इतना कहकर नवजोत सि‍ंह सिद्धू मृतक पत्रकार रमन के घर मौन अनशन पर बैठ गए।पलियाकलां: निघासन से पहले नवजोत सि‍ंह सिद्धू ने चौखड़ा फार्म के रहने वाले युवा किसान लवप्रीत के परिवारजन से मिलकर शोक संवेदना जताई। उन्होंने लवप्रीत का फोटो देखकर कहा कि सत्तामद में चूर नेताओं ने एक मासूम नवयुवक की जान ले ली। उन्होंने कहा भाजपा का शीर्ष नेतृत्व अपने मंत्री को बचाने में जुटा है जो लोकतंत्र व देश दोनों के लिए खतरनाक है। लवप्रीत जैसे युवक असमय चले जाना उसके परिवार के लिए जीवन भर का दर्द बन गया है। इसे किसी भी तरह से दूर नहीं किया जा सकता है। सरकार यदि इनकी पीड़ा कम करना चाहती है तो गुनहगारों को पकड़ कर तुरंत जेल भेजे।

धौरहरा में होता रहा इंतजार,नहीं आ सके सिद्धू

धौरहरा: धौरहरा में किसान नक्षत्र ङ्क्षसह के घर नवजोत ङ्क्षसह सिद्दू का इंतजार होता रहा। प्रशासन पूरी मुस्तैदी से व्यवस्था में लगा था। छह बजे खबर आई कि सिद्धू निघासन में धरना देकर बैठ गए। अब सिद्धू का इंतजार था।

Comments