सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

नए वेरिएंट फैलने की आशंका : आश्रमों और गेस्ट हाउस में भी देना होगा अब कोरोना जांच का प्रमाणपत्र

  मथुरा / उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद में वृन्दावन शहर में दस विदेशी एवं एक देशी नागरिक के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सभी गेस्ट हाउसों एवं आश्रमों को कहा है कि वे अपने आने वाले हर देशी-विदेशी मेहमान का पूरा ब्योरा रखें और उनके पास कोरोना जांच का नेगेटिव प्रमाण पत्र होने के बाद ही उन्हें अपने यहां ठहराएं। गौरतलब है कि लंबे समय तक कोरोना वायरस का मामला नहीं आने के बाद बरती गई लापरवाही के बाद अब फिर से कोरोना संक्रमितों के मिलने का सिलसिला चल पड़ा है। वृन्दावन में पिछले सप्ताह से अब तक दस विदेशी एवं एक उड़ीसा की भारतीय नागरिक संक्रमित पाई जा चुकी है। तीन विदेशी जिला स्तर पर कोई सूचना दिए बिना यहां से लौट भी चुके हैं। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रचना गुप्ता ने कहा है कि गेस्ट हाउस एवं आश्रम बाहर से आने वाले व्यक्तियों के रुकने से पूर्व उनके कोविड वैक्सीनेशन प्रमाणपत्र एवं कोविड-19 जांच रिपोर्ट प्राप्त कर ही उन्हें ठहराएं तथा ऐसा नहीं होने पर वे तत्काल स्वास्थ्य विभाग के नियंत्रण कक्ष को रिपोर्ट करें। उनके अनुसार नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। न

परमाणु बम बनाने की ओर बढ़ रहा ईरान? इजरायल एयरफोर्स ने अटैक की शुरू की तैयारी

 


 साल की शुरुआत में ही इजरायल डिफेंस फोर्स के चीफ ने तैयारियों के लिए अरबों डॉलर का फंड अलॉट किया। साल 2015 के अमेरिका से ईरान के परमाणु समझौते में वापसी के संकेतों के बाद से ही इजरायल अलर्ट हो गया था। बाइडेन एडमिनिट्रेशन एक बार फिर ईरान के साथ परमाणु समझौते में जुड़ना चाहता है। इजरायल एयरफोर्स जल्द ही ईरान के न्यूक्लियर सेंटर पर अटैक की तैयारी शुरू करेगा। 


इजरायल डिफेंस फोर्सेज ने ईरान के एटम बम के हमले के मद्देनजर ये तैयारियां शुरू की हैं।इजरायल टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार साल 2015 में अमेरिका और अन्य देशों के साथ जेसीपीओए पर हस्ताक्षर के बाद इज़रायल ने ईरानी परमाणु कार्यक्रम पर सैन्य हमले के मुद्दे को बैक बर्नर पर रखा। लेकिन 2018 में अमेरिका की ट्रंप सरकार द्वारा इस डील से हाथ पीछे खींच लिए गए। लेकिन ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, चीन और रूस इस समझौते को बचाने में लगे रहे। 


पिछले महीने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण में इज़रायली प्रधानमंत्री नफ्ताली बेनेट ने  ईरान के परमाणु हथियार प्रोग्राम को नियंत्रित करने के लिए लगाए गए प्रतिबंधों को तोड़कर इसने ‘रेड लाइन’ का उल्लंघन किया है। लेकिन इजरायल तेहरान को परमाणु बम हासिल करने की मंजूरी नहीं देगा। संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए अपने पहले भाषण में बेनेट ने दावा किया कि इस्लामिक रिपब्लिक ने हाल के सालों में अपनी परमाणु क्षमता और हथियार-ग्रेड यूरेनियम को समृद्ध करने की क्षमता में एक बड़ी छलांग लगाई है।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव