सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

देहरादून: अबकी बार एक से पांच नवंबर तक ही पटाखों की होगी बिक्री, गली-कूचों में दुकानें खोलने पर होगा मुकदमा दर्ज

 

 


देहरादून में दिवाली पर आतिशबाजी के लिए पटाखों की दुकानें एक से पांच नवंबर तक ही खुलेंगी। इन दुकानों के लिए 30 अक्तूबर तक लाइसेंस जारी किए जाएंगे। कारोबारियों की सहूलियत के लिए प्रशासन सिंगल विंडो सिस्टम के जरिए लाइसेंस जारी करेगा। यह बात जिलाधिकारी डॉ. आर राजेश कुमार ने पुलिस0प्रशासनिक अधिकारियों व व्यापारियों के साथ बैठक में कही।

 जिलाधिकारी ने कहा कि  अग्निशमन विभाग की अनापत्ति प्रमाणपत्र जारी होने के बाद ही दुकानों का लाइसेंस जारी किए जाएं। ऐसे स्थानों  पर दुकान आवंटन का लाइसेंस जारी किया जाए जहां अग्निशमन वाहन आसानी से पहुंच सके। साथ ही दुकान के आसपास ज्वलनशील पदार्थ की मौजूदगी का न होना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित कराया जाए कि पटाखों की दुकानें तंग स्थानों पर न हों।

 विद्युत तारों के पास न हो और वहां किसी अन्य सामान का कारोबार न किया जाए। बैठक में एसएसपी जन्मेजय खंडूरी, एडीएम (वित्त एवं राजस्व) केके मिश्रा, एसपी सिटी सरिता डोभाल, स्वतंत्र कुमार एसपी देहात, अपूर्वा पांडे संयुक्त मजिस्ट्रेट ऋषिकेश, एसडीएम सदर मनीष  कुमार, एसडीएम विकासनगर विनोद कुमार , एसडीएम कालसी  सौरभ असवाल, सीओ सिटी   शेखर सुयाल , मुख्य अग्निशमन अधिकारी  राजेन्द्र खाती के अलावा व्यापार मंडल के  प्रतिनिधि देवेंद्र कुमार अग्रवाल, जुगल किशोर, तरविंदर सिंह, दीपक अग्रवाल, आदित्य मित्तल मौजूद थे


दीपावली के दौरान यदि किसी कारोबारी ने जिला प्रशासन की ओर से जारी लाइसेंस की शर्तों के विपरीत भीड़भाड़ भरे बाजारों या गली-कूजों में दुकानें खोली तो उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। साथ ही दुकान का सारा सामान जब्त कर लिया जाएगा। दुकान लगाने की शर्तों और इस दौरान बरती जाने वाली सावधानियों का कड़ाई से पालन कराया जाएगा।

 जिलाधिकारी ने कहा कि हर साल की तरह इस साल भी पलटन बाजार कोतवाली से घंटाघर तक, धामावाला बाजार-कोतवाली से आढ़तबाजार चौक तक, मोतीबाजार में पलटन बाजार से पुरानी सब्जीमंडी तक, हनुमान चौक -झंडा मोहल्ला,रामलीला बाजार-बैंड बाजार तक, आनंद चौक से लक्ष्मण चौक तक,डिस्पेंसरी रोड का सम्पूर्ण क्षेत्र, घणंटाघर चकराता रोड पर हनुमान मन्दिर तक, सर्वे चौक से डीएवी पीजी कॉलेज जाने वाली सड़क,  करनपुर मुख्य बाजार के अलावा ऐसे स्थान जहां जगह बहुत कम हैं वहां पटाखे की दुकानें नहीं लगाने दी जाएगी। धनतेरस को रात 12 बजे तक सर्राफा व अन्य मेटल फर्नीचर की दुकानें खुली रहेंगी। सराफा व्यापारियों की मांग पर उन्हें पुलिस सुरक्षा मुहैया कराई जाएगी। 





टिप्पणियाँ

Popular Post