सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

उत्तर प्रदेश चुनाव: 40 फीसदी महिलाओं को टिकट देगी कांग्रेस,प्रियंका गांधी का बड़ा ऐलान

 

 



लखनऊ /  कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने लखनऊ में मंगलवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी 40 फीसदी सीटें महिलाओं को देगी। हमारी प्रतिज्ञा है कि महिलाएं उत्तर प्रदेश की राजनीति में पूरी तरह से भागीदार होंगी। इस दौरान उन्होंने लड़की हूं...लड़ सकती हूं का नारा भी दिया।उन्होंने बताया कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान प्रचार के लिए मैं उत्तर प्रदेश आई थी। इस दौरान मैंने इलाहाबाद विश्वविद्यालय की कुछ लड़कियों से मुलाकात की थी। उस दौरान उन्होंने बताया कि किस तरह से विश्वविद्यालय के नियम-कानून उनके लिए अलग थे और पुरुषों के लिए अलग थे। ऐसे में हमने यह निर्णय उनके लिए लिया है। उन्होंने कहा कि हमने यह निर्णय उस महिला के लिए लिया है जिसने गंगा यात्रा के दौरान मेरी गांव को तट पर वापस बुलाकर कहा कि मेरे गांव में पाठशाला नहीं है और मैं अपने बच्चों को पढ़ाना चाहती हूं। यह निर्णय प्रयागराज की लड़की पारो के लिए लिया है, जिसने मेरा हाथ पकड़कर कहा कि दीदी मैं बड़ी होकर नेता बनना चाहती हूं। यह निर्णय चंदौली में शहीद एयरफोर्स के पायलट की बहन के लिए है, जिसने मुझे कहा कि मेरा भाई शहीद हो गया लेकिन मैं पायलट बनना चाहती हूं।इसी प्रकार प्रियंका गांधी ने उन्नाव, हाथरस, रमेश कश्यप की बेटी, लखीमपुर, सोनभद्र इत्यादि का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि यह फैसला उत्तर प्रदेश की हर एक महिला के लिए लिया गया है। उन्होंने कहा कि अगर आप बदलाव चाहती हैं तो आप इंतजार मत करिए। उन्होंने कहा कि घृणा का बोलबाला है, यह गलत है। महिलाएं यह बदल सकती हैं। 

टिप्पणियाँ

Popular Post