रिटायर IPS अधिकारी अमिताभ ठाकुर लखनऊ में गिरफ्तार

 

 



लखनऊ /  मऊ के घोसी से बहुजन समाज पार्टी के सांसद अतुल राय पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली युवती को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में जबरिया रिटायर आइपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर को शुक्रवार को लखनऊ में गिरफ्तार कर लिया गया है। उनको हजरतगंज कोतवाली में रखा गया है। अमित ठाकुर वहां पर हंगामा कर रहे हैं, उनकी पत्नी नूतन ठाकुर भी इस दौरान हजरतगंज कोतवाली पहुंची हैं।

पीड़िता ने दिल्ली में आत्मदाह से पहले इस मामले में इंटरनेट मीडिया पर जारी बयान में पूर्व आईपीएस को माफिया मुख्तार अंसारी के इशारे पर बचाने का आरोप लगाते हुए मानसिक शोषण के साथ न्याय से वंचित करने का आरोप लगाया था। बसपा सांसद अतुल राय पर आरोप लगाने वाली पीड़िता के मामले में हुई एसआईटी जांच की रिपोर्ट के आधार पर पूर्व आईपीएस की गिरफ्तारी हुई है। पीड़िता ने मुख्तार अंसारी की शह पर दुष्कर्म के आरोपी अतुल राय को बचाने के लिए पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर के ऊपर आपराधिक षड्यंत्र रचने का आरोप था। जांच में यह सही पाए जाने पर हजरतगंज पुलिस ने शुक्रवार को पूर्व आईपीएस को उनके आवास से गिरफ्तार किया है।

घोसी से बसपा सांसद अतुल राय पर दुष्कर्म का आरोप लगानी वाली लड़की और दुष्कर्म के मामले में गवाह के नई दिल्ली में आग लगाकर आत्मदाह करने के बाद से जबरिया रिटायर आइपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर की मुश्किल बढ़ गई थी। आत्मदाह मामले की जांच करने वाली एसआइटी ने अमिताभ ठाकुर के खिलाफ केस दर्ज किया था। इसके बाद से उनके घर के बाहर लगातार पुलिस तैनात थी। एफआईआर दर्ज होने के बाद आज अमिताभ ठाकुर को गोमतीनगर में उनके घर के बाहर से गिरफ्तार कर लिया गया है। उनको दुष्कर्म पीड़िता को आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में गिरफ्तार किया गया है। अमिताभ ठाकुर के खिलाफ आज एसआईटी जांच की रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई हुई है। इनके खिलाफ मुख्तार अंसारी की शह पर दुष्कर्म के आरोपी अतुल राय को बचाने के लिए पीड़िता ने आपराधिक षड्यंत्र रचने का आरोप लगाया था। पीड़िता ने बीते दिनों नई दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह कर लिया था। 

jagran

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ चुनाव लड़ने की घोषणा करने के साथ ही बीते कई महीनों ने इंटरनेट मीडिया पर एक्टिव जबरिया रिटायर आइपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने लम्बे समय से सरकार के खिलाफ इंटरनेट मीडिया पर बेहद मुखर भी हैं। बीते दिनों ठाकुर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ गोरखपुर या फिर कही से भी विधानसभा चुनाव लड़ने की घोषणा की थी। ठाकुर उनकी गिरफ्तारी के बाद मामला काफी गरम हो गया है।

 

Sources: जेएनएन