उत्तराखंड : बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री हाईवे समेत 659 सड़कें बंद ,कई जिलों में भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट

 


  उत्तराखंड में मैदान से लेकर पहाड़ तक अगले 24 घंटों में ज्यादातर इलाकों में भारी बारिश के आसार हैं। मौसम विभाग के मुताबिक राजधानी देहरादून के अलावा नैनीताल, बागेश्वर और पिथौरागढ़ जैसे जिलों में तेज बौछारों के साथ ही भारी बारिश की संभावना है। इन जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। जहां तक राजधानी दून व आसपास के इलाकों का सवाल है तो जिले भर में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग के मुताबिक राज्य के कई जिलों में तेज गर्जना के साथ ही आकाशीय बिजली गिरने की भी संभावना है। जिलाधिकारी डा. आर राजेश कुमार ने शहर के नदी किनारे के सभी इलाकों में रहने वालों को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने एसडीएम सदर गोपाल राम बिनवाल को लोगों को पहले से सचेत करने को कहा। जिलाधिकारी के निर्देश पर प्रशासन की अलग-अलग टीमों ने जनप्रतिनिधियों के माध्यम से लोगों को सावधानी बरतने को कहा। उन्होंने कहा कि नदियों में जल स्तर बढ़ने और खतरे की आशंका होने पर लोग तुरंत आसपास के सुरक्षित स्थानों पर शरण लें।प्रदेश में बारिश के बाद जगह-जगह मलबा आने से 659 मार्ग बंद हैं। राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र के मुताबिक उत्तरकाशी जिले में दो, देहरादून में दो, चमोली में 7, पौड़ी में 18, टिहरी में 10, बागेश्वर में 3, नैनीताल में 3, चंपावत में 3 एवं पिथौरागढ़ में 17 मार्ग बंद हैं। गुरुवार देर रात हुई बारिश के बाद बदरीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री हाईवे कई जगह पर बंद है। यमुनोत्री हाईवे नैनबाग में मलबा आने से बंद हो गया है। वहीं, शुक्रवार तड़के फकोट के समीप ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे का एक पूरा हिस्सा भारी बारिश से पूरी तरह टूट गया है। जिससे हाईवे के दोनों ओर कई वाहन फंस गए हैं। बारिश इतनी तेज है कि वंहा मशीन भेजना भी चुनौती बना हुआ है। प्रत्यक्षदर्शी लोनिवि नरेंद्रनगर के ईई मोहम्मद आरिफ खान ने बताया कि हाईवे फकोट के पास पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है। उधर, ऋषिकेश-बदरीनाथ हाईवे तोताघाटी और तपोवन के बीच कई स्थानों पर मलबा आने से बंद है। विकासनगर-बड़कोट हाईवे यमुना पुल के पास अवरुद्ध हो गया है। मुनिकीरेती थाना क्षेत्र के तपोवन में गुरुवार देर रात दो दोपहिया वाहन सवार लोग गहरी खाई में गिर गए। आनन फानन मौके पर पहुंची एसडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू अभियान शुरू किया। एसडीआरएफ की टीम में दोनों घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया।गुरुवार की रात को हुई झमाझम बारिश के कारण ऋषिकेश में उफान पर आई चंद्रभागा नदी ने अपना रुख बदल लिया है। अब चंद्रभागा नदी की धारा धन्वंतरी भवन की ओर बह रही है। इससे लोगों में दहशत बनी हुई है। प्रशासन की ओर से गुरुवार को जिन लोगों को रैन बसेरे में शिफ्ट करने की व्यवस्था की गई थी वहां कोई रैन बसेरे में नहीं गया। स्थानीय प्रशासन की ओर से कुछ राजस्व कर्मियों की ड्यूटी मौके पर लगाई गई है। वे चंद्रभागा नदी के जल स्तर पर नजर बनाए हुए हैं।मालदेवता से सहस्त्रधारा जाने वाले बाईपास की सड़क का एक बड़ा हिस्सा बह गया है। लगातार हो रही बारिश के बाद नदी में उफान आने से सड़क को कई जगह पर नुकसान पहुंचा है। करीब 20 मीटर सड़क पूरी तरह गायब हो गई है। प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और वहां आवाजाही बंद कर दी है। दोनों तरफ से आने वाले वाहनों को वापस लौटाया जा रहा है।