पुष्कर सिंह धामी का बतौर सीएम एक माह का कार्यकाल पूरा

 

 



मुख्यमंत्री के रूप में पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को एक माह का कार्यकाल पूरा कर लिया। इस अवधि में युवा मुख्यमंत्री ने युवाओं को रोजगार देने के लिए जहां भर्ती प्रक्रिया तेज की, वहीं कर्मचारियों, महिलाओं और अनाथ बच्चों के लिए भी नई योजनाओं की सौगात दी है। राज्य में सख्त भू-कानून व उत्तराखंड देवस्थानम बोर्ड जैसे मुद्दों पर भी स्टैंड लेकर भाजपा को भंवर से निकालने की कोशिश की।

युवा:22 हजार पदों पर नियुक्ति
सीएम बनने के बाद पुष्कर सिंह धामी का जोर सबसे अधिक युवाओं पर दिखाई दे रहा है। उन्होंने सीएम की कुर्सी संभालते ही विभागों में खाली 22 हजार के करीब पदों को भरने के निर्देश दिए। यही नहीं 15 अगस्त तक सभी विभागों में विज्ञप्ति प्रकाशित करने की डेडलाइन भी तय कर दी गई है। इससे राज्य में लंबे समय से लटकी भर्ती प्रक्रिया में तेजी आने और युवाओं को रोजगार मिलने की उम्मीद जगी है।  

रोजगार:नौकरी में एक वर्ष की छूट
कोरोना की वजह से एक वर्ष खराब होने पर धामी ने उन युवाओं को बड़ी राहत दी जो सरकारी नौकरी के लिए तय उम्र सीमा पार कर चुके हैं। सरकारी नौकरी के लिए इन युवाओं को एक साल की छूट देकर मौका दिया गया है। एनडीए, सीडीएस आदि परीक्षाओं की तैयारी के लिए युवाओं को आर्थिक मदद देने का निर्णय लिया गया है। साथ ही अतिथि शिक्षकों का वेतन भी बढ़ाया गया है।

पर्यटन:राहत को आर्थिक पैकेज
उत्तराखंड की आर्थिकी कोरोना के चलते बहुत खराब दौर से गुजर रही है। राजस्व में रिकॉर्ड कमी की वजह से सरकार के लिए खर्च चलाना मुश्किल हो रहा है। इसके बावजूद धामी सरकार ने कोविड से बुरी तरह प्रभावित चारधाम व पर्यटन सेक्टर के लिए दो सौ करोड़ रुपये का आर्थिक पैकेज दिया। पर्यटन व चारधाम यात्रा से जुड़े लोगों को इस फैसले से बड़ी राहत मिली। 

स्वास्थ्य:स्वास्थ्यकर्मियों को प्रोत्साहन
मुख्यमंत्री ने कोरोनाकाल में लगातार सेवाएं देने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के लिए भी प्रोत्साहन की घोषणा की। उन्होंने हेल्थ सेक्टर के लिए 205 करोड़ रुपये का पैकेज देकर मुश्किल हालातों में स्थिति संभालने वाले स्वास्थ्यकर्मियों को सम्मान दिया। डॉक्टरों के अलावा नर्स, पैरामेडिकल, फार्मासिस्ट और विभाग के सभी संवर्गों को इसके तहत प्रोत्साहित करने का निर्णय लिया गया है।

उपनल:कर्मचारियों में जगाई आस
राज्य के 22 हजार से अधिक उपनल कर्मचारी समान कार्य का समान वेतन व नियमितीकरण मांग रहे हैं। इन मांगों को लेकर सीएम ने मंत्रिमंडल की उपसमिति बनाई है। यह समिति उपनलकर्मियों से बातचीत कर अपनी रिपोर्ट देने वाली है। उपनलकर्मियों के लिए सबकमेटी गठित कर उन्होंने वर्षों से बहुत मामूली मानदेय पर काम कर रहे कर्मचारियों में एक नई उम्मीद जगा दी है।  

अस्पताल:पीएचसी में जांच की सुविधा
मुख्यमंत्री धामी ने कोरोना से बचाव और तीसरी लहर की चुनौती को देखते हुए सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों (पीएचसी) में कोविड जांच शुरू करने का निर्णय लिया है। पीएचसी में जांच की सुविधा से दूरदराज के लोगों को राहत मिलेगी। इससे इलाज में भी मदद मिलेगी। इसके अलावा बच्चों को संक्रमण से बचाने के लिए भी कई अहम कदम उठाए गए हैं।

देवस्थानम बोर्ड:हाई पावर कमेटी का गठन
चारधाम देवस्थानम बोर्ड को लेकर तीर्थ पुरोहितों और हक हकूकधारियों के आंदोलन को देखते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने एक उच्च स्तरीय समिति का गठन करने का निर्णय लिया है तो बोर्ड की व्यवस्था के संदर्भ में अंतिम निर्णय लेगी। इसके साथ ही राज्य में सख्त भू कानून पर भी मुख्यमंत्री ने विचार करने का निर्णय लिया है। 

एमबीबीएस:इंटर्न का स्टाईपेंड बढ़ाया
राज्य के सरकारी मेडिकल कॉलेजों में एमबीबीएस इंटर्न को अब तक बहुत कम स्टाईपेंड मिल रहा था। इसके लिए उन्होंने आवाज भी उठाई थी। मुख्यमंत्री धामी ने सत्ता संभालने के तुरंत बाद स्टाईपेंड बढ़ाने का निर्णय लिया। इंटर्न को स्टाईपेंड के रूप में पहले 7500 रुपये प्रतिमाह मिलते थे। यह राशि अब बढ़कर 17,000 रुपये कर दी गई है।

आपदा राहत:पिथौरागढ़ में हेलीकॉप्टर
धामी ने आपदा प्रबंधन एवं राहत कार्यों के लिए पिथौरागढ़ में हेलीकॉप्टर तैनात करने का भी निर्णय लिया है। इससे आपदा की स्थिति में घायलों व प्रभावितों को जल्द अस्पताल पहुंचाया जा सकेगा। इसके अलावा आम लोग भी रियायती दर पर इस हेलीकॉप्टर में सफर कर सकेंगे जिससे सड़क बंद या आपात परिस्थितियों में उन्हें देरी नहीं होगी।

Sources:hindustanSamachar