अफगानिस्तान का झंडा फहराने पर गोलियां दागीं, सेना की वर्दी में नजर आए तालिबानी लड़ाके

 


  अफगानिस्तान में वो सबकुछ हो रहा है, जिसकी कल्पना अफगानियों ने तालिबान के राज के बाद की होगी। काबुल पर कब्जा जमाते ही शांति कायम करने, महिलाओं को उनके अधिकार देने जैसी बातें करने वाला तालिबान अपनी असलियत पर उतर आया है। मामला अफगानी राष्ट्रध्वज लेकर प्रदर्शन करने वालों से जुड़ा है।
न्यूज एजेंसी अस्वाका के मुताबिक, कुछ अफगानी नागरिक अपना राष्ट्रध्वज लेकर प्रदर्शन कर रहे थे और अफगानी झंडा न उतारने की मांग कर रहे थे। इसी बीच तालिबानी आतंकियों ने उन पर गोली चला दी। न्यूज एजेंसी ने इसका वीडियो भी जारी किया है। इसमें कुछ लोग अफगानी झंडा लहरा रहे हैं। लेकिन, थोड़ी देर बात गोलियों की आवाज सुनाई देते ही भगदड़ मच जाती है। घटना नानगरहार प्रांत के सुर्खरोड की बताई जा रही है। गोली चलने के बाद एक बार फिर पूरे इलाके में दहशत का माहौल बन गया है।

 

#Taliban open fire on a protest caries the Afghan national flag & asking the Taliban to not take down this Flag 🇦🇫, Nangarhar-Surkhroad District #Afganisthan #Afghanistan
 
 https://twitter.com/i/status/1427885280946647049
 
सेना की वर्दी में दिखे तालिबानी 


न्यूज एजेंसी अस्वाका की ओर कुछ तस्वीरें भी जारी की गई हैं। इन तस्वीरों में तालिबानी लड़ाके सेना की वर्दी में दिखाई दे रहे हैं। यह वर्दी तालिबान की पुरानी सरकार के राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय से संबंधित है। अभी कुछ दिनों पहले सोशल मीडिया यूजर्स ने तालिबान की वर्दी को लेकर चिंता जाहिर की थी, इसके बाद ही तालिबानी लड़ाके सेना की वर्दी में दिखाई दिए हैं।

महिला गवर्नर को बनाया बंधक 


इस घटना से पहले तालिबान क्रूरता की एक और खबर सामने आई थी। इसमें तालिबानी आतंकियों ने बल्ख प्रांत की महिला गवर्नर सलीमा गजारी को बंधन बना लिया था। बताया जा रहा है महिला गवर्नर ने तालिबान के खिलाफ आवाजा उठाई थी। उन्हें कहां और किस हाल में रखा गया है, इसकी जानकारी किसी को नहीं है। वहीं तालिबान ने सभी महिला न्यूज एंकरों को भी हटा दिया है। 
 
Agency News