कुरान पढ़कर अच्छा इंसान बन सकते हैं, IAS नहीं: अशफाक सैफी

 

 

उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन अशफाक सैफी हाल में ही मेरठ दौरे पर आए थे। अपने दौरे के दौरान उन्होंने कहा कि कुरान पढ़ने से आदमी अच्छा इंसान तो बन सकता है लेकिन डॉक्टर, इंजीनियर, अध्यापक, वकील और आईएएस बनने के लिए अंग्रेजी और साइंस जैसे विषयों की पढ़ाई करनी पड़ती है। अशफाक सैफी ने कहा कि यही कारण है कि हम मदरसों को हाईटेक करने की कोशिश कर रहे हैं ताकि वहां तकनीकी शिक्षा को बढ़ाया जा सके और उन विषयों को पढ़ाया जा सके। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में संचालित मदरसों में तमाम गड़बड़ियां है। यहां कम बच्चे दिखा कर सरकार से ज्यादा पैसे लेने का भी खेल चलता है।उन्होंने यह भी कहा कि मदरसों में वजीफे और शुल्क प्रतिपूर्ति के नाम पर तमाम घोटाले हुए है। लेकिन अब इस तरह की चीजों पर रोक लगाने के लिए आयोग ने प्रदेश स्तर पर जांच समितियां बनाई है। यह समितियां प्रदेश में सभी मदरसों की जांच करेगी और गड़बड़ियों को रोकेगी। उन्होंने कहा कि मदरसों का अब आधुनिकीकरण किया जा रहा है ताकि वहां कुरान के साथ-साथ हिंदी अंग्रेजी, गणित और विज्ञान जैसे विषयों की पढ़ाई शुरू की जा सके।सैफी ने यह भी निर्देश दिया के कोरोना काल में जिन अल्पसंख्यक समुदाय के बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया है उन्हें मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ दिलाया जाए। उन्होंने कहा कि मोहल्लों में जहां पर अब संख्यक समुदाय के लोग ज्यादा रहते हैं वहां वैक्सीनेशन कैंप लगाया जाए। साथ ही साथ मदरसों में भी वैक्सीनेशन कैंप लगाने की आवश्यकता है।