सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

लखीमपुर खीरी हिंसा: जांच कर रही एस.आई.टी ने चश्मदीद गवाहों से साक्ष्य देने के लिए निकाला विज्ञापन

    लखनऊ  /   लखीमपुर हिंसा कांड में उत्तर प्रदेश सरकार को सुप्रीम कोर्ट द्वारा सभी गवाहों को सुरक्षा देने के निर्देश के बाद विशेष अनुसंधान दल (एसआइटी) ने जांच की गति और तेज कर दी है। एसआइटी ने चश्मदीद गवाहों से साक्ष्य देने का अनुरोध करते हुए विज्ञापन निकाला है। विज्ञापन में एसआइटी अपने सदस्यों के संपर्क नंबर जारी किया है। प्रत्यक्षदर्शियों से आगे आकर अपने बयान दर्ज कराने और डिजिटल साक्ष्य प्रदान करने के लिए उनसे संपर्क करने का आग्रह करती किया है। एसआइटी का कहना है कि ऐसे लोगों की जानकारी गोपनीय रखी जाएगी और उन्हें पुलिस सुरक्षा दी जाएगी। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार को आदेश दिया है कि लखीमपुर खीरी हिंसा मामले के सभी गवाहों को गवाह सुरक्षा योजना, 2018 के मुताबिक पुलिस सुरक्षा दी जाए। साथ ही कोर्ट ने अन्य महत्वपूर्ण गवाहों के बयान भी सीआरसीपी की धारा-164 के तहत मजिस्ट्रेट के समक्ष जल्द दर्ज कराने का निर्देश देते हुए कहा कि अगर बयान दर्ज करने के लिए मजिस्ट्रेट उपलब्ध नहीं हैं तो जिला जज नजदीक के मजिस्ट्रेट से बयान दर्ज कराएंगे। इसके अलावा कोर्ट ने हिंसा म

कोरोना को मात देने के लिए वीकेंड पर सख्ती

  

 

नैनीताल / मसूरी  / पर्यटक स्थलों पर वीकेंड के चलते सैलानियों की अवहाजी होना शुरू हो गई है। कोरोना की तीसरी लहर से बचने के लिये जिला प्रशासन, पुलिस विभाग और स्वास्थ्य विभाग ने सख़्ती कर दी है। बाहर से आने वालो वाहनों को रुसी बाईपास के समीप रोका जा रहा है। बिना रिपोर्ट वालो को रुसी बाईपास और बारहपत्थर से वापस लौटा दिया जा रहा है। नगर में आने के आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट लाना जरुरी है,जो सिर्फ 72 घंटे मान्य होगी। वही कई पर्यटक फर्जी रिपोर्ट या पुरानी रिपोर्ट दिखा रहें है। कोतवाल अशोक कुमार का ने बताया कि पुलिस की ओर जगह जगह चेकिंग की जा रही है। बिना मास्क वालो का चालान भी काटा जा रहा है। गाड़िया रोक चेक किया जा रहा है। बिना रिपोर्ट वालो का रैपीट एंटीजन टेस्ट भी किए जा रहें है। नगर में प्रवेश करने से पहले तल्लीताल चुंगी, मल्लीताल चौकी, सूखताल बारापत्थर में पुलिस के द्वारा रैपिड एंटीजन टेस्ट की जांच की जा रही है।  वही स्वास्थ्य विभाग द्वारा नगर में अलग अलग स्थानों में रैपिड एंटीजन टेस्ट किए जा रहें है। वही पुलिस चौकी में एक पर्यटक अपने को किसी पार्टी का मंत्री बताकर पुलिस को हेकड़ी दिखा रहा था। मल्लीताल कोतवाली अशोक कुमार ने पर्यटक का कोरोना टेस्ट कराया जिसके बाद बिना मास्क के घूम रहें 500 रुपए का चालान कांटा। वही अशोक कुमार ने बताया की कुछ पर्यटक नगर कोरोना टेस्ट की फर्जी रिपोर्ट ला रहें है। उन्होंने बताया की उनका रैपिड टेस्ट किया जा रहा है। अगर कोई पर्यटक पॉजिटिव पाया जा रहा है,तो उसे तत्काल नगर से बाहर भेजा जा रहा है।वहीं अभी तक मल्लीताल पुलिस ने बिना मात्र के घूम रहे पर्यटक ओके 50 चालान काटे गए। वही शख्त हिदायत देकर मास्क वितरित किए। उत्तराखंड कोरोना के मद्देनजर मसूरी-देहरादून और नैनीताल के पर्यटक स्थलों पर इस वीकेंड पर भी सख्ती बढ़ाई गई है।  मसूरी-नैनीताल में शनिवार और रविवार को दोपहिया का प्रवेश बंद रहेगा। बाकी वाहनों से उन्हीं पर्यटकों को मसूरी और नैनीताल जाने दिया जाएगा, जिनके पास दून स्मार्ट सिटी पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन, 72 घंटे की कोविड नेगेटिव रिपोर्ट और मसूरी और नैनीताल में होटल बुकिंग का प्रमाण होगा।डीएम डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव ने कोविड गाइडलाइन तोड़ने वालों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। उन्होंने बाजार, रेलवे स्टेशन, बस स्टॉप, पर्यटक स्थलों की निगरानी को भी कहा है।सहस्रधारा, गुच्चूपानी और मसूरी में किसी भी व्यक्ति को तालाब, नदी, झरने में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। एसएसपी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि मसूरी-दून मार्ग पर कुठालगेट-किमाड़ी वैकल्पिक मार्ग पर दो चेकपोस्ट होंगी। सहस्रधारा और गुच्चूपानी में भी चेकपोस्ट बनाए गए हैं। नैनीताल में शर्तों का पालन नहीं करने वाले वाहनों को बीते सप्ताह की भांति रूसी एवं नारायणनगर पार्किंग में रोका जाएगा, जहां से पर्यटकों को शटल सेवा से नैनीताल पहुंचाया जाएगा।

टिप्पणियाँ

Popular Post