सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव.संग्राम 2022: भाजपा.और आप के बीच में छिड़ा स्टार वार,कांग्रेस कर रही इंतजार

      भाजपा व आप ने रणनीति के तहत स्टार वार का गेम शुरू किया है। दरअसल, आचार संहिता लागू होने पर वीवीआईपी की रैलियां कराने के लिए पूरा खर्चा प्रत्याशियों के खाते में शामिल होता है।  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले स्टार वार शुरू हो चुका है। भाजपा और आम आदमी पार्टी अभी इसमें आगे चल रही है, जबकि कांग्रेस अभी इंतजार के मूड में है।   निर्वाचन आयोग की टीमों की इस पर पैनी नजर रहती हैं।  निर्धारित सीमा से ज्यादा खर्च होने की दशा में ऐसे प्रत्याशियों को आयोग के नोटिस झेलने पड़ते हैं और चुनाव के वक्त इनका जवाब देने में उनका समय अनावश्यक जाया होता है। भाजपा में सबसे ज्यादा डिमांड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे दो माह के भीतर उत्तराखंड के दो दौरे कर चुके हैं। पहले वे सात अक्तूबर को ऋषिकेश एम्स में आक्सीजन प्लांट जनता को समर्पित करने आए और इसके बाद पांच नवंबर को केदारनाथ धाम के दर्शन को पहुंचे। अब मोदी चार दिसंबर को दून में चुनाव रैली संबोधित करने आ रहे हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी इस बीच दो दौरे कर चुके हैं। अक्तूबर में कुमाऊं के कई हिस्सों में आपदा के बाद वे रेस्क्यू आपरेशन

सैन्य अफसर बनकर गिफ्ट देने के नाम पर ऐसे कर डाली लाखों की ठगी, पढ़िए

  


शातिर साइबर ठग ने खुद को सैन्य अधिकारी बताते हुए पहले युवती से दोस्ती की। बाद में भारत आने की बात कहकर गिफ्ट देने के नाम पर साढ़े तीन लाख की धोखाधड़ी की। पीड़िता की शिकायत पर वसंत विहार थाने में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया गया है। थानाध्यक्ष इंस्पेक्टर देवेंद्र चौहान ने बताया कि शिकायती पत्र साइबर थाने से मिला है। स्वाति उनियाल निवासी शास्त्रीनगर इंदिरानगर ने विल्सन मैकडॉनल्ड के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। उसने पुलिस को बताया कि इंस्टाग्राम के माध्यम से विल्सन से दोस्ती हुई। उसने खुद को सैन्य अधिकारी बताया था और भारत आने की बात कही थी। विल्सन ने कहा था कि वह गिफ्ट लेकर आ रहा है और कस्टम ड्यूटी के नाम पर युवती से पैसे मांगे थे।

नौकरी के नाम पर युवती से ठगे साढ़े तीन लाख
देहरादून। नेहरू कॉलोनी थाने में एक युवती ने साढ़े तीन लाख रुपये की धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज करवाया है। युवती ने पुलिस को बताया कि साउथ कोरिया की कंपनी हुंडई मोबिज नाम पर एक व्यक्ति ने फोन पर जॉब दिलाने की बात कही। फोन करने वाले ने खुद को कंपनी का मालिक बताया था। उसके झांसे में आकर नौकरी के चक्कर में युवती ने साढ़े तीन लाख रुपये दे दिए। बाद में न नौकरी मिली और न ही पैसा। नेहरु कॉलोनी थानाध्यक्ष विनोद गुसाईं ने बताया कि दीक्षा उनियाल निवासी साकेत कॉलोनी अजबपुर की तहरीर पर मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू कर दी गई है।

टिप्पणियाँ

Popular Post