सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

सरकार से बातचीत के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने बनाई 5 लोगों की कमेटी, टिकैत बोले- हम कहीं नहीं जा रहे

  कृषि कानूनों के निरस्त होने के बाद आज संयुक्त किसान मोर्चा के अहम बैठक हुई। इस बैठक में आंदोलन संबंधित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की गई। इसके साथ ही 5 लोगों की कमेटी बनाई गई है जो सरकार से एमएसपी और किसानों से केस वापसी जैसे मुद्दों पर बातचीत करेगी। अब संयुक्त किसान मोर्चा की अगली बैठक 7 दिसंबर को होगी। बैठक के बाद राकेश टिकैत ने बताया कि 5 लोगों की कमेटी बनाई है। यह कमेटी सरकार से सभी मामलों पर बातचीत करेगी। अगली मीटिंग संयुक्त किसान मोर्चा की यहीं पर 7 तारीख को 11-12 बजे होगी। इस 5 लोगों की कमेटी में युद्धवीर सिंह, शिवकुमार कक्का, बलबीर राजेवाल, अशोक धवाले और गुरनाम सिंह चढुनी के नाम पर सहमति बनी है। बताया जा रहा है कि यह संयुक्त किसान मोर्चा की यह हेड कमेटी होगी जो किसानों से जुड़े मुद्दे पर महत्वपूर्ण फैसले लेगी। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि अब तक सरकार की ओर से आधिकारिक तौर पर बातचीत के लिए किसानों को नहीं बुलाया गया है। लेकिन जब भी सरकार की ओर से किसानों को बातचीत के लिए बुलाया जाएगा, यह 5 लोग ही जाएंगे। राकेश टिकैत की ओर से फिर दोहराया गया कि आंदोलन फिलहाल खत्म नहीं होगा। उन

देश में तेजी से सुधर रहे कोरोना के हालात, रिकवरी रेट बढ़कर 93.1 फ़ीसदी हुआ-स्वास्थ्य मंत्रालय

देश में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी गई। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि पिछले 24 घंटे में कोरोना के 1,32,000 के करीब मामले आए हैं। पिछले 8 दिनों से कोरोना मामले 2 लाख से भी कम आ रहे हैं। मामलों में 68% की कमी आई है। 66% मामले 5 राज्यों से आ रहे हैं। 33% मामले 31 राज्यों से आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि 100 से अधिक औसत दैनिक नए मामलों की रिपोर्ट करने वाले जिलों में लगातार कमी आई है; प्रतिदिन 100 से अधिक मामलों की रिपोर्ट करने वाले अभी 257 जिले हैं।लव अग्रवाल ने आगे कहा कि रिकवरी दर में लगातार वृद्धि हुई है, वर्तमान में 93.1% है। 377 जिले वर्तमान में 5% से कम नए मामले रिपोर्ट कर रहे हैं। यदि हम 7 मई के उच्चतम रिपोर्ट किए गए शिखर की तुलना में डेटा का विश्लेषण करते हैं, तो हम दैनिक मामलों में 68% की गिरावट दर्ज कर रहे हैं। 66% नए मामले 5 राज्यों से प्रभावी रूप से आ रहे हैं और बाकी के मामले 31 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों से आ रहे हैं जो दर्शाता है कि हम स्थानीय स्तर पर वायरस को नियंत्रित करने में कामयाब हुए हैं। लव अग्रवाल ने कहा कि अब तक 22.41 करोड़ वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी हैं। जिसमें मुख्य रूप से स्वास्थ्यकर्मी, फ्रंट लाइन वर्कर्स और 45 साल से ज्यादा उम्र के लोग शामिल हैं। 18-45 आयु वर्ग के 2.43 करोड़ लोगों को वैक्सीन की डोज़ दी गई हैं। नीति आयोग के डॉ. वीके पॉल ने कहा कि आवर वर्ल्ड इन डेटा के अनुसार, भारत में वैक्सीन की कम से कम एक खुराक पाने वालों की संख्या 17.2 करोड़ है। वैक्सीन की पहली खुराक पाने वाले लोगों की संख्या के मामले में हम अमेरिका से आगे निकल गए हैं।

टिप्पणियाँ

Popular Post

चित्र

बदायूं: बिसौली आरक्षित सीट को लेकर राजनीतिक दलों में गहन मंथन, भाजपा से सीट छीनने की फिराक में सपा आशुतोष मौर्य पर फिर खेल सकती है दांव