सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

दिसंबर में उत्तराखंड आ सकते हैं राहुल गांधी,मोदी के दौरे पर होगा जबावी हमला

    देहरादून /  भाजपा द्वारा चुनावी तैयारियों को गति देने और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे के जवाब में कांग्रेस भी उत्तराखंड में राहुल गांधी का दौरा कराने की तैयारी में है। माना जा रहा है कि दिसंबर में कुमाऊं अथवा गढ़वाल मंडल में राहुल गांधी का दौरा कराया जाएगा। वहीं, चुनावी रणनीति पर चर्चा करने के लिए प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल रविवार को दिल्ली पहुंचे और प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव से मुलाकात की। वह सोमवार को अन्य केंद्रीय पदाधिकारियों से भी मुलाकात करेंगे। आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए कांग्रेस भी चुनाव की तैयारियों में जुटी हुई है। इस समय कांग्रेस के वरिष्ठ नेता प्रदेश भर में गांव-गांव कांग्रेस अभियान चला रहे हैं। इसके तहत विभिन्न इलाकों में रात्रि विश्राम और जनसभाओं का दौर चल रहा है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दौरे के जवाब में कांग्रेस भी वरिष्ठ पार्टी नेताओं का प्रदेश में दौरा कराने की तैयारी कर रही है। इस कड़ी में दिसंबर माह में वरिष्ठ नेता राहुल गांधी की सभा कराने के लिए केंद्रीय नेतृत्व से वार्ता चल रही है। माना जा रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष अपने दिल्ली दौरे क

पति की सांसों के बदले पत्नी के साथ अस्पताल कर्मचारी ने किया यौन उत्पीड़न

 

 


भारत में कोरोनावायरस की दूसरी लहर ने कहर बरपा रखा है। कोरोना से हुई मौतों के कारण शमशानों में शवों की लाइन लगी है। कुछ लोग अस्पताल में इलाज करवा रहे हैं तो कुछ घरों पर उपचार कर रहे हैं। कोरोना वायरस की मौजूदा स्थिति ने मानसिक रुप से काफी परेशान किया है। इस लहर के दौरान हर किसी ने अपने करीबियों को खोया है। यह स्थिति भयानक है। कोविड -19 से शारीरिक, वित्तीय स्थिति के साथ-साथ लोगों के मानसिक स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ा है।  ऐसे दुख की घड़ी में कुछ लोग फरिश्ता बनकर भी सामने आये और लोगों की मदद की।अविश्वास और सद्भावना की कई कहानियाँ हैं, जिन्होंने आशा को जीवित रखा है। इस अच्छाई के साथ-साथ कुछ ऐसे भी लोगों के चेहरे सामने आये जिन्होंने महामारी में लोगों का फायदा उठाया ऑक्सीजन , दवाइयों की काला बाजारी की। यहां तक भी इंसान की नियत समझ आती है लेकिन बिहार के एक अस्पताल से कथित तौर पर  जो घटना सामने आयी है उसने इंसानियत और मानवता को शर्मसार करके रख दिया है। यह घटना बिहार के भागलपुर से है जहा एक महिला ने कथित तौर पर अपने कोरोना वायरस से पीड़ित पति को ज़िंदा रखने के लिए में लगभग एक महीने तक संघर्ष किया। उनके पति की इसी महीने पटना के एक निजी अस्पताल में कोरोना से जंग के बाद मौत हो गयी। महिला ने अपने पति की मौत के लिए  अस्पताल के कर्मचारियों को जिम्मेदार माना है। महिला का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा वायरल हो रहा है जिसमें उसने अस्पताल के लोगों पर काफी गंभीर आरोल लगाये हैं।  महिला ने आरोप लगाया है कि जब वह अपने कोविड-पॉजिटिव पति के इलाज के लिए प्रयास कर रही थी, तो बिहार के एक अस्पताल में कर्मचारियों द्वारा उसका यौन उत्पीड़न किया गया था। महिला ने अपने पति की मौत के लिए चिकित्सकीय लापरवाही को भी जिम्मेदार ठहराया है। उसने अस्पताल पर ब्लैक में ऑक्सीजन बेचने का भी आरोप लगाया। वीडियो में महिला ने कहा कि वह और उसका पति होली मनाने के लिए मार्च में नोएडा से बिहार आए थे। बिहार आने के बाद  महिला के पति की तबियत ठीक नहीं थी। वो 11 अप्रैल को बीमार हो गया। महिला ने बताया कि उसके पति ने कोरोनोवायरस का दो बार परीक्षण करवाया लेकिन दोनों बार रिपोर्ट नेगिटिव आयी। महिला के पति ने आखिर में अपनी टेस्ट का एक्सरे करवाया जिसमें  फेफड़ों का संक्रमण दिखाई दिया। एक दिन बाद उस व्यक्ति और उसकी माँ को भागलपुर के ग्लोकल अस्पताल में भर्ती कराया गया।अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए, महिला ने कहा कि अस्पताल में काम करने वाले कर्मचारी गायब थे जो मौजूद थे उन्होंने दवा देने से इनकार कर दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि उनके पति, जो संघर्ष कर रहे थे, पानी के लिए संकेत दे रहे थे लेकिन किसी ने भी उन्हें पानी नहीं दिया। महिला ने कहा कि उसने एक परिचारक से अस्पताल में रहने में मदद करने का अनुरोध किया। उसने कहा कि वह अपने पति से बात कर रही थी जब उसे महसूस हुआ कि कोई उसके दुपट्टे को खींच रहा है। मैं अपने पति  से बात करते हुए पीछे मुड़ी तो वह मेरी कमर पर हाथ रख कर मुस्कराने लगा। मेरी मां ने भी उसे ऐसा करते हुए देखा। मैंने दुपट्टे को छीन लिया, लेकिन कुछ भी नहीं कह सका क्योंकि मुझे डर था। उसने कहा कि वह डरती थी कि अगर उसने आवाज उठायी तो वह उसकी माँ या उसके पति के लिए कुछ नहीं करेगा। महिला ने कहा कि उसके पति की हालत खराब हो गई है, जिसके बाद उसे मायागंज में इलाज के लिए भेजा गया। उसने आरोप लगाया कि भागलपुर सरकारी अस्पताल में डॉक्टरों ने उसके पति को भर्ती होने से मना कर दिया या उसके रोने के बावजूद उसे ऑक्सीजन देने से मना कर दिया। उसने यह भी आरोप लगाया कि मायागंज में डॉक्टर और कर्मचारी अपने कमरों में रोशनी बंद कर देंगे और लोगों के मरने पर भी अपने मोबाइल फोन पर फिल्में देखेंगे। मायागंज से महिला के पति को पटना के राजेश्वर अस्पताल ले जाया गया। उसने कहा कि उसने एक एयर एम्बुलेंस के माध्यम से उसे दिल्ली लाने की कोशिश की, लेकिन उसकी हालत बिगड़ने की वजह से नहीं ला सकी।महिला ने कहा कि स्थिति यहां अलग नहीं थी। उसने अस्पताल के कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया। उसने आरोप लगाया कि अस्पताल के कर्मचारियों ने उसके पति की ऑक्सीजन की आपूर्ति में कटौती कर दी, जिसके कारण उसे काला बाजार से सिलेंडर खरीदने के लिए मजबूर होना पड़ा। अस्पताल ने ऑक्सीजन सिलेंडर को 50,000 रुपये में बेचा।लोगों से अपने प्रियजनों की देखभाल करने और अस्पतालों पर भरोसा न करने की अपील करते हुए, महिला ने कहा कि उसने अपने पति को कोरोनावायरस से नहीं खोया, लेकिन चिकित्सा लापरवाही और ऑक्सीजन के कारण खोया है। कोविड -19 की दूसरी लहर के दौरान, बिहार उन राज्यों में से एक है जो सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। बिहार में सोमवार को 75 कोविड -19 हताहतों की संख्या बढ़कर 3357 हो गई, जबकि कुल पुष्टि मामलों में छह लाख का आंकड़ा पार कर गया।

 Source:PrabhaShakshi

 

  https://twitter.com/i/status/1391729056932978689

टिप्पणियाँ

Popular Post