सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में वित्तीय गड़बड़ी का खुलासा

  उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार ‘सूर्यधार झील’ में वित्तीय गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। इस पर सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने इस मामले के दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि दो साल पहले जांच शुरू हुई थी, जैसा कि मालूम हो कि  29 जून 2017 को तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सूर्यधार झील के निर्माण की घोषणा की थी। 22 दिसंबर 2017 को इसके लिए 50 करोड़ 24 लाख रुपये का बजट मंजूर करा गया था। इसके बाद 27 अगस्त 2020 को सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने सूर्यधार बैराज निर्माण स्थल का निरीक्षण किया तो उनका खामियां मिलीं। मौके पर खामियां सामने आने के बाद महाराज ने जांच के आदेश दे दिए थे। मामले की जांच को 16 फरवरी 2021 को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। इस समिति ने 31 दिसंबर 2021 को शासन को रिपोर्ट सौंप दी। पर्यटन मंत्री महाराज को चार जनवरी 2022 को रिपोर्ट मिली तो उन्होंने कार्रवाई के निर्देश दे दिए। अब सिंचाई सचिव हरिचंद सेमवाल ने इस मामले में सिंचाई विभाग के एचओडी प्रमुख अभियंता इंजीनियर मुकेश मोहन को कार्रवाई करने के निर्देश

बड़ी खबर : कोरोना पर कंट्रोल के लिए सेना को किया गया अलर्ट, 21 दिन का कंपलीट लॉकडाउन लगा सकती है केंद्र सरकार।

 

नई दिल्ली/  वैश्विक महामारी क्रूर कोरोना की दूसरी लहर के दौरान संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए केंद्र सरकार ने एक बार फिर कमर कस लिया है।  खबरें मिल रही हैं कि आने वाले दिनों के दौरान 21 दिनों के लिए सरकार एक बार फिर लॉकडाउन लगा सकती है।  बड़ी बात यह है कि इस बार स्थिति को संभालने की जिम्मेदारी स्थानीय पुलिस की बजाए सेना के कंधों पर डाली जा सकती है।  पूरे लॉकडाउन के दौरान सेना ही मोर्चा संभालेगी।  इसके लिए सेना और अर्द्धसैनिक बलों को अलर्ट कर दिया गया है। 
आपको जान लेना महत्वपूर्ण है कि कोरोना वायरस संक्रमण ने दूसरे लहर में तबाही मचा रखी है।  संक्रमण की रफ़्तार इतनी अधिक तेज है कि देश की स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरह से चरमरा गई है।  ज्यादातर राज्यों के अस्पतालों में बिस्तर, डॉक्टर, ऑक्सीजन, मेडिसीन और अन्य चिकित्सकीय उपकरणों की भारी कमी देखने को मिल रही है। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने सुझाव  दिया था। 


Source:न्यूज़ 1 हिन्दुस्तान 

टिप्पणियाँ

Popular Post