हरिद्वार में रामनवमी स्नान से पहले पसरा सन्नाटा,श्रद्धालुओं ने कोरोना के चलते किया किनारा

  


 कुंभ के रामनवमी पर्व स्नान को लेकर मेला पुलिस और प्रशासन पूरी तरह तैयार हो गया है। बुधवार को पर्व स्नान होगा। हालांकि स्नान से कुछ घंटे पहले हरकी पैड़ी समेत पूरी शहर में सन्नाटा पसरा रहा। यात्रियों की संख्या अपेक्षा से बेहद कम नजर आई। हरकी पैड़ी क्षेत्र में कुछ हजार यात्री ही नजर आये। उधर पुलिस ने स्नान को लेकर मोर्चा संभाल लिया है। बुधवार को कुंभ का अंतिम पर्व स्नान संपन्न होगा। जबकि एक शाही स्नान 27 अप्रैल को चैत्र पूर्णिमा का होना शेष है। रामनवमी स्नान को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।आईजी मेला संजय गुंज्याल ने ऑनलाइन पुलिसकर्मियों को दिशा निर्देश भी जारी कर दिए हैं। सीमाओं पर सख्ती बढ़ा दी गई है।  बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए आईजी ने पुलिसकर्मियों से फेसशील्ड पहनकर ड्यूटी करने की अपील की है। पिछले स्नानों की अपेक्षा जोन और सेक्टरों में भी बदलाव किया गया है। सेक्टरों की संख्या 24 से घटाकर 11 कर दी गई है। हालांकि इस पर्व स्नान में कम ही भीड़ पहुंचती है, लेकिन इस बार कोरोना के संक्रमण के कारण सबसे फीका स्नान रामनवमी का हो सकता है।पिछले वर्ष 2010 के कुंभ में 10 लाख श्रद्धालुओं ने स्नान किया था। स्नान की संध्या पर हरिद्वार हरकी पैड़ी पर बेहद ही कम भीड़ दिखाई दी। मंगलवार सुबह हरकी पैड़ी पर भी सन्नाटा पसरा रहा। पार्किंग में वाहनों की संख्या 50 भी नहीं रही। भीड़ कम होने पर ट्रैफिक प्लान भी लागू नहीं किया गया है। बुधवार को भी कोई ट्रैफिक प्लान लागू नहीं किया जाएगा। हाईवे भी पूरी तरह चलता हुआ दिखाई दिया। भारी वाहनों को रोकने की व्यवस्था पुलिस ने की थी, लेकिन भीड़ कम होने के कारण जरूरत नहीं पड़ी। देर रात को पुलिस ने अपनी ड्यूटियां संभाल ली है। आईजी संजय गुंज्याल ने बताया कि स्नान की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। कोविड-19 के नियमों का पालन कराया जाएगा।


Sources:Hindustan