सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में वित्तीय गड़बड़ी का खुलासा

  उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार ‘सूर्यधार झील’ में वित्तीय गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। इस पर सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने इस मामले के दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि दो साल पहले जांच शुरू हुई थी, जैसा कि मालूम हो कि  29 जून 2017 को तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सूर्यधार झील के निर्माण की घोषणा की थी। 22 दिसंबर 2017 को इसके लिए 50 करोड़ 24 लाख रुपये का बजट मंजूर करा गया था। इसके बाद 27 अगस्त 2020 को सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने सूर्यधार बैराज निर्माण स्थल का निरीक्षण किया तो उनका खामियां मिलीं। मौके पर खामियां सामने आने के बाद महाराज ने जांच के आदेश दे दिए थे। मामले की जांच को 16 फरवरी 2021 को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। इस समिति ने 31 दिसंबर 2021 को शासन को रिपोर्ट सौंप दी। पर्यटन मंत्री महाराज को चार जनवरी 2022 को रिपोर्ट मिली तो उन्होंने कार्रवाई के निर्देश दे दिए। अब सिंचाई सचिव हरिचंद सेमवाल ने इस मामले में सिंचाई विभाग के एचओडी प्रमुख अभियंता इंजीनियर मुकेश मोहन को कार्रवाई करने के निर्देश

दुःखद-खाई में गिरी प्रवासियों की कार; पिता-पुत्री की मौत, छह घायल, 27 को थी बेटी की शादी

  


  अल्मोड़ा / रामनगर-बदरीनाथ हाईवे पर चौड़ीघट्टी क्षेत्र में प्रवासियों की कार खाई में जा गिरी। हादसे में पिता पुत्री की मौके पर ही मौत हो गई। छह अन्य घायल हो गए। इनमें दो की हालत गंभीर बताई जा रही है। दुर्घटना में जान गंवा बैठी युवती की 27 अप्रैल को शादी थी। इसी सिलसिले में प्रवासी परिवार तैयारी के लिए पैतृक गांव आ रहा था। दुर्घटना मंगलवार की सुबह करीब आठ बजे हुई। विकासखंड के कपोलीछीना कस्बे से लगे धमेड़ा बाजन गांव निवासी कमल सिंह रावत (55) दिल्ली में बस गए थे। 27 अप्रैल को उनकी बेटी किरन (20) का विवाह होना था। बताया जाता है कि शादी गांव से ही कराने का फैसला लिया गया था। इसी वजह से कमल सिंह बीती देर रात कार यूपी 16 एएक्स 3524 से परिवारी सदस्यों को लेकर दिल्ली से अपने गांव के लिए निकले। सुबह चौड़ीघट्टी के पास हरड़ा के तीखे मोड़ पर चालक वाहन पर नियंत्रण खो बैठा। नतीजतन, कार असंतुलित होकर खाई में जा गिरी।वाहन सवार तीन लोग जैसे तैसे पहाड़ी चढ़ कर सड़क तक पहुंचे। हादसे के बारे में बताया। क्षेत्र के युवा समाजसेवी भूपेंद्र सिंह मेहरा, चंदन सिंह मेहरा, कैलाश जमनाल, अजय रावत, भगत मेहरा, हिम्मत जायसवाल आदि खाई में उतरे। दुर्घटनाग्रस्त वाहन में फंसे लोगों को बमुश्किल बाहर निकाला गया। कमल सिंह व किरन दम तोड़ चुकी थी। तीन अन्य बुरी तरह घायल थे। इनमें दो की हालत नाजुक बताई जा रही है। थानाध्यक्ष भतरौजखान अनीस अहमद, तहसीलदार नेहा रानी ने मय टीम दुर्घटनास्थल का जायजा लिया। घायलों को 108 सेवा से चिकित्सालय ले जाया जा रहा है। 

हरड़ा हादसे के घायल 

= चालक बागंबर सिंह पटवाल पुत्र पदम् सिंह पटवाल निवासी कपसोली मासी 

= मंजू देवी पत्नी कमल सिंह रावत निवासी धमेड़ा बाजन भिकियासैंण

= हेमा देवी पत्नी भूपेंद्र सिंह निवासी सिनौड़ा भिकियासैंण 

= नियति बिष्ट पुत्री भूपेंद्र सिंह सिनौड़ा गांव 

= श्याम सुंदर सिंह पुत्र कमल सिंह निवासी धमेड़ा बाजन  

 = ललित सिंह पुत्र हरि सिंह निवासी कड़ाकोट बाजन


Sources:JNN

टिप्पणियाँ

Popular Post