सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में वित्तीय गड़बड़ी का खुलासा

  उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट में शुमार ‘सूर्यधार झील’ में वित्तीय गड़बड़ी की पुष्टि हुई है। इस पर सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने इस मामले के दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि दो साल पहले जांच शुरू हुई थी, जैसा कि मालूम हो कि  29 जून 2017 को तत्कालीन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सूर्यधार झील के निर्माण की घोषणा की थी। 22 दिसंबर 2017 को इसके लिए 50 करोड़ 24 लाख रुपये का बजट मंजूर करा गया था। इसके बाद 27 अगस्त 2020 को सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने सूर्यधार बैराज निर्माण स्थल का निरीक्षण किया तो उनका खामियां मिलीं। मौके पर खामियां सामने आने के बाद महाराज ने जांच के आदेश दे दिए थे। मामले की जांच को 16 फरवरी 2021 को तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। इस समिति ने 31 दिसंबर 2021 को शासन को रिपोर्ट सौंप दी। पर्यटन मंत्री महाराज को चार जनवरी 2022 को रिपोर्ट मिली तो उन्होंने कार्रवाई के निर्देश दे दिए। अब सिंचाई सचिव हरिचंद सेमवाल ने इस मामले में सिंचाई विभाग के एचओडी प्रमुख अभियंता इंजीनियर मुकेश मोहन को कार्रवाई करने के निर्देश

अजब देश की गजब कहानी- एक सप्ताह पहले मृत पुलिस कर्मी का कर दिया ट्रांसफर

  


 पुलिस उप महानिरीक्षक कार्यालय नैनीताल से जारी पुलिस कर्मियों के तबादला सूची में लापरवाही बरतने का मामला सामने आया है। इस बीच जारी की गई स्थानांतरण सूची में एक मृत जवान का नाम भी शामिल कर दिया गया। इसके बाद अन्य पुलिस कर्मियों ने स्थानांतरण नियमावली को नियम विरुद्ध जारी करने की बात कही है। रविवार को आईजी कार्यालय से जारी स्थानांतरण सूची में पुलिस कर्मियों के एक जिले में तैनाती की समय अवधि पूरी कर चुके 362 कार्मिकों को शामिल किया गया। इसमें 10 कर्मचारियों को अनुकंपा के आधार पर स्थानांतरित किया गया। इस बीच कुल 372 पुलिसकर्मियों के तबादले की सूची जारी की गई। सूची में ऐसे पुलिसकर्मी का नाम दर्ज है, जिसकी एक सप्ताह पहले ही मौत हो चुकी है। स्थानांतरण आदेश को लेकर पुलिस कर्मियों का आरोप है कि नियमावली के विरुद्ध लंबे समय से चुनिंदा पुलिसकर्मी सुगम क्षेत्रों में जमे हुए हैं। जबकि 10 वर्षों तक पूर्व में दुर्गम क्षेत्र में ड्यूटी कर चुके कर्मियों का दोबारा दुर्गम क्षेत्रों में ही स्थानांतरण कर दिया गया है। पुलिसकर्मियों ने व्यवस्था में सुधार करने की मांग की है।

स्थानांतरण सूची में एक मृत कर्मचारी का नाम दर्ज होने की बात संज्ञान में आई है। जिसे अवलोकन के लिए मांगा गया है। सूची को दुरुस्त कर तत्काल जारी किया जाएगा। शेष स्थानांतरण यथावत रहेंगे।
अजय रौतेला, आईजी कुमाऊं


Sources:hindustan

टिप्पणियाँ

Popular Post