उत्तराखंड- संक्रमण बढ़ा तो राजधानी सहित अन्य शहरों में झेलने पड़ सकते हैं प्रतिबंध

  

उत्तराखंड में यदि कोरोना संक्रमण की रफ्तार नहीं थमी और मरीज बढ़ने का सिलसिला जारी रहा तो राजधानी दून सहित अन्य स्थानों पर लोगों को कुछ प्रतिबंध झेलने पड़ सकते हैं। इसमें सार्वजनिक समारोह में प्रतिभागियों की संख्या सीमित होने के साथ ही नाइट कफ्र्यू जैसे विकल्प भी शामिल हैं।  दरअसल राज्य में पिछले दो सप्ताह से कोरोना संक्रमण में भारी इजाफा हुआ है और एक ही दिन में छह से सात सौ नए मरीज सामने आ रहे हैं। राजधानी देहरादून का हाल सबसे बुरा है जहां एक ही दिन में तीन सौ से अधिक मरीज मिले हैं।

देश के कई राज्यों में संक्रमण बढ़ने के बाद अलग-अलग तरह के प्रतिबंध लगाए जाने शुरू हो गए हैं। इसे देखते हुए अब राज्य सरकार पर भी संक्रमण रोकने के लिए कड़े कदम उठाने का दबाव है। सूत्रों ने बताया कि राज्य में संक्रमण की स्थिति पर अगले एक-दो दिन नजर रखने का निर्णय लिया गया है और उसके बाद कुछ कड़े कदम उठाए जा सकते हैं। हालांकि इस मामले में पहले उच्च स्तर पर विचार विमर्श किया जाएगा और हरी झंडी मिलने के बाद ही फैसला होगा। बता दें कि उत्तराखंड में बुधवार को कोरोना के 1109 नए मरीज मिले और पांच संक्रमितों की मौत हो गई।

सबसे अधिक मरीज देहरादून और हरिद्वार जिले में मिले हैं जिससे सरकार की टेंशन बढ़ गई है। इसके साथ ही राज्य में कुल मरीजों का आंकड़ा 104711 पहुंच गया है। जबकि मरने वालों का आंकड़ा 1741 हो गया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार बुधवार को अकेले देहरादून जिले में 505 नए मरीज मिले हैं। जबकि हरिद्वार में 308 नए मरीज मिले हैं। इसके अलावा नैनीताल में 113, यूएस नगर में 84, अल्मोड़ा में तीन, चमोली में एक, चम्पावत में पांच, पौड़ी में 57, रुद्रप्रयाग में 10, टिहरी में 19 मरीज मिले हैं।

जबकि उत्तरकाशी, पिथौरागढ़ और बागेश्वर में एक भी नया मरीज नहीं मिला है। बुधवार को एम्स ऋषिकेश में एक, श्री महंत इंद्रेश अस्पताल में दो, हिमालयन हॉस्पिटल में एक जबकि सिनर्जी अस्पताल में भर्ती एक संक्रमित मरीज की मौत हो गई। राज्य के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती 88 मरीजों को इलाज के बाद अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया। जिससे राज्य में अभी तक ठीक होने वाले मरीजों की संख्या 96735 हो गई है। जबकि एक्टिव मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 4526 हो गया है।

पहाड़ पर संक्रमण फैलने का खतरा 
देहरादून में संक्रमण की स्थिति तेजी से बिगड़ रही है। ऐसे में यदि अभी नहीं संभले तो देहरादून से अब संक्रमण अन्य जिलों में भी फैलने का खतरा है। ऐसे में 12 राज्यों से उत्तराखंड आने वाले प्रतिबंध राज्य के भीतर भी लगाने पर विचार हो सकता है। हालांकि संक्रमण की स्थिति बहुत ज्यादा बिगड़ने पर ही यह निर्णय लिए जाने की उम्मीद है।  

राज्य में मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। संक्रमण न बढ़े इसके लिए कई उपाय किए जा रहे हैं। पुलिस को भी कोविड मानकों का पालन न करने वालों से सख्ती बरतने को कहा गया है। यदि लोग फिर भी नहीं संभले और हालात ज्यादा खराब हुए तो कड़े कदम भी उठाने पड़ सकते हैं। 


अमित नेगी, सचिव स्वास्थ्य  


Sources:agency News