कानपुर में युवक ने ससुराल के घर पर पेट्रोल डालकर लगा दी आग, सात झुलसे



 कानपुर के जूही रत्तूपुरवा में युवक ने शुक्रवार तड़के अपनी ससुराल में  आग लगा परिवार को जिंदा फूंकने का प्रयास किया। घटना  में  पत्नी सहित सात लोग गंभीर रूप से झुलस गए। चीख पुकार सुनकर लोग पहुंचे और आग बुझाकर पत्नी सहित सात झुलसे लोगों को उर्सला अस्पताल ले गए,  जहां तीन की हालत नाजुक बताई जा रही है।जूही रत्तूपुरवा निवासी हीरालाल की बड़ी बेटी मनीषा (23) ने करीब तीन साल पहले हरदोई निवासी ड्राइवर मुकेश से की थी। मकान की पहली मंजिल में रहने वाले मनीषा के चाचा कमलेश उर्फ कल्लू का आरोप है कि मनीषा के गर्भवती होने के बावजूद मुकेश उसे मारता पीटता था। करीब छह माह पहले उसे मायके ले आये थे, जहां एक माह पहले मनीषा ने बच्चे को जन्म दिया।  कमलेश ने बताया कि शुक्रवार सुबह करीब चार बजे मुकेश घर के बाहर आकर शोर मचाने लगा। जैसे ही वह ऊपर अपने कमरे से निकले तभी उसने कमरे में दरवाजे के नीचे पेट्रोल डालकर लाइटर जला दिया। पेट्रोल की आग धधक उठी।मनीषा,  उसका बच्चा,  पिता हीरालाल,  मां शिवकुमारी,  भाई मनीष, बहन राधा,  उमा और वंदना झुलस गए। चीख पुकार मचने पर मोहल्ले वाले दौड़े और कुंडी खोल कर पानी डालकर आग बुझाई और झुलसे लोगों को उर्सला ले गए। वहीं, इस घटना के बाद मौके पर एसीएम प्रथम आरपी वर्मा, एसपी साउथ सहित जूही थाने की फोर्स पहुंची। एसपी साउथ दीपक भूकर ने बताया कि मामले में तहरीर मिली है। आरोपित की गिरफ्तारी के लिए चार टीमें गठित की गई हैं। जल्द उसे गिरफ्तार किया जाएगा।

 

                             10 लीटर पेट्रोल लेकर आया था मुकेश

पड़ोसियों ने बताया कि मुकेश परिवार को जलाने के लिए 10 लीटर के गैलन में पेट्रोल लेकर आया था। उसने पहले बाहर से कुंडी लगाई और फिर दरवाजे के नीचे से पेट्रोल लगाने के बाद आग लगा दी थी। गनीमत रही कि लोग समय से जाग गए और आग बुझा ली गई। वरना बहुत बड़ी घटना होती।