जस्टिस आरएस चौहान बने उत्तराखंड के नये मुख्य न्यायाधीश,पद की ली शपथ

 

तेलंगाना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रह चुके जस्टिस आरएस चौहान ने आज गुरुवार को राजभवन में उत्तराखंड हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश पद की शपथ ली। जस्टिस आरएस चौहान को 11.40 पर राज्यपाल बेबीरानी मौर्य ने शपथ दिलायी। जस्टिस आरएस चौहान इससे पहले तेलंगाना हाईकोर्ट में मुख्य न्यायाधीश थे। 31 दिसंबर को केंद्र सरकार ने उनके उत्तराखंड हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बनाने की अधिसूचना जारी की थी।उत्तराखंड हाईकोर्ट में बतौर कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश नियुक्त जस्टिस रवि आर मलिमथ को हिमाचल हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश बनाया गया है। 24 दिसंबर 1959 को जन्में जस्टिस आरएस चौहान ने अपनी अधिवक्ता की पारी राजस्थान हाईकोर्ट से शुरू की थी।वे क्रिमनल एवं सर्विस मामलों के विशेषज्ञ माने जाते हैं। राजभवन से बताया गया कि कोरोना संक्रमण के कारण सामाजिक दूरी के नियम के कारण स्थानाभाव है और इस वजह से समारोह सादगी से आयोजित किया जा रहा है।उत्तराखंड हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति सुधांशु धूलिया गुवाहाटी हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश बनाए गए हैं। न्यायमूर्ति धूलिया नैनीताल हाईकोर्ट से उत्तराखंड मूल के चीफ जस्टिस बनने वाले तीसरे न्यायाधीश हैं। इससे पहले सुप्रीमकोर्ट के जज रहे न्यायमूर्ति पीसी पंत और न्यायमूर्ति वीके बिष्ट भी चीफ जस्टिस बन चुके हैं। 

न्यायमूति चौहान ने तेलंगाना में न्याय प्रणाली किए हैं बड़े सुधार

तेलगांना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस राघवेंद्र सिंह चौहान ने अपने डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में न्याय प्रणाली में बहुत सुधार किए हैं। उन्होंने कोविड -19 प्रबंधन और सार्वजनिक स्वास्थ्य मामलों और झीलों के प्रबंधन जैसे प्रमुख मुद्दों को व्यवस्थित करने के प्रयास किए। लॉकडाउन के दौरान बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों के लिए एक सुरक्षित मार्ग सुनिश्चित कराने पर उनके प्रयास की सराहना की गई।चीफ जस्टिस राघवेंद्र सिंह चौहान ने राजस्थान हाईकोर्ट में जून 2005 में न्यायाधीश के रूप में शपथ ली। मार्च 2015 में कर्नाटक हाईकोर्ट में उनका तबादला कर दिया गया। वह एक वरिष्ठ न्यायाधीश के रूप में तेलंगाना हाईकोर्ट में आए और अप्रैल 2019 में तेलंगाना के चीफ जस्टिस बन गए।



Sources:Agency News