Alert:उत्तराखंड में बर्ड फ्लू की दस्तक,दो कौवों के सैंपल रिपोर्ट पॉजिटिव के बाद मचा हड़कंप

 

उत्तराखंड में सोमवार को बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई। सचिव पशुपालन आर मीनाक्षी सुंदरम ने बताया कि देहरादून और कोटद्वार क्षेत्र में मिले मृत पक्षियों के सैंपलों की जांच में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। संक्रमण रिपोर्ट आने के बाद से सरकार ने हाई अलर्ट जारी कर दिया। सोमवार देर शाम पशुपालन सचिव आर मीनाक्षीसुंदरम ने बताया कि पिछले दिनों मृत पाए गए कौवों के सैंपल भोपाल स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान भेजे गए थे। वहां से रिपोर्ट आ गई है।

देहरादून और कोटद्वार के भेजे गए सैंपल में दो पॉजिटिव पाए गए हैं। रिपोर्ट आने के बाद सभी विभागों को हाई अलर्ट कर दिया गया है। पशुपालन विभाग ने पोल्ट्री फार्म की नियमित जांच के लिए जिला स्तर पर टास्क फोर्स का गठन कर दिया है। अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वो प्रवासी पक्षी और पोल्ट्री फार्म पर पैनी निगाहें बनाए रखें। किसी भी पक्षी में बीमारी के लक्षण नजर आने पर तत्काल सूचित करें। उन्होंने कहा कि बर्ड फ्लू की वजह से अधिक भयभीत होने की भी जरूरत नहीं है। चिकन और अंडों को अच्छे से उबालने से वो वायरस मुक्त हो जाते हैं। उनका सेवन किया जा सकता है।अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए गए हैं कि प्रवासी पक्षियों और पोल्ट्री फार्म पर विशेष नजर रखें। चूंकि अब कौवों में फ्लू की पुष्टि हो चुकी है, इसलिए अतिरिक्त सतर्कता बरतनी होगी। देश में पक्षियों से मनुष्यों में संक्रमण की अभी तक कोई खबर नहीं है।

आर.मीनाक्षीसुंदरम, पशुपालन सचिव

बर्ड फ्लू  के खतरे को लेकर वन विभाग में रेड अलर्ट
देहरादून। बर्ड फ्लू को लेकर राज्य में वन विभाग को रेड अलर्ट कर दिया गया है। वन विभाग को 24 घंटे हाई अलर्ट मोड पर रहने के निर्देश दे दिए गए हैं। अब तक प्रदेश भर में सात सौ से ज्यादा  पक्षियों की मौत हो चुकी है। वन मंत्री डा. हरक सिंह ने बताया कि लगातार  पक्षियों की मौत के कारण विभाग में रेड अलर्ट कर दिया गया है। सभी जिला मुख्यालयों के डीएफओ को जिलों का नोडल अधिकारी बनाया गया है। इसके अलावा मुख्य वन संरक्षक गढ़वाल और मुख्य वन संरक्षक कुमाऊं को मंडल का नोडल  अफसर बनाया गया है।

वहीं एपीसीसीएफ प्रशासन कपिल लाल को राज्य का नोडल अधिकारी बनाया गया है। चीफ गढ़वाल व कुमाऊं को निर्देश दिए गए हैं कि वे रोजाना शाम को छह बजे सारे डिवीजनों में मृत पक्षियों की सूचनाओं की रिपोर्ट वन मुख्यालय और चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन को देंगे। उन्होंने बताया कि विभाग की ओर से लोगों को जागरूक करने के भी निर्देश दिए गए हैं, ताकि कोई मृत पक्षी मिलने पर लोग उसे ना छुएं ना ही उसे हटाएं। बल्कि विभाग को सूचित करें। इस मामले को लेकर उन्हेांने पीसीसीएफ राजीव भर्तरी को निर्देश दिए थे। 

पीपीई और सैंपलिंग किट के लिए बजट प्रस्ताव मांगा
डा. हरक सिंह ने बताया कि सभी डिवीजनों में सुरक्षा के लिए वन कर्मियों को पीपीई किट और सैंपलिंग किट दी जाएगी। उन्होंने विभाग को पीपीई किट और सेंपलिंग किट के लिए बजट का प्रस्ताव जल्द भेजने को कह दिया है। प्रस्ताव आते ही तुरंत बजट रिलीज कर दिया जाएगा। ताकि किटें जल्द खरीदी जा सकें। इसके अलावा भी सुरक्षा के लिए बजट दिया जाएगा। 

बर्ड फ्लू की पुष्टि हो गई है। पिछले कुछ दिनों में राज्य भर में जिस तरह सात सौ से ज्यादा पक्षियों की मौत हो चुकी है,उसे देखते हुए रेड अलर्ट कर दिया है। विभाग को 24 घंटे हाई अलर्ट पर रहने को कहा गया है। हम एहतियात बरत रहे हैं। 
डा. हरक सिंह, वन मंत्री

Sources:HindustanSamachar