यूपी-उत्तराखंड आशारोड़ी बॉर्डर पर हाईवे जाम कर रहे किसानों की पुलिस के साथ झड़प

 


भारत बंद आंदोलन के तहत ट्रैक्टर ट्रालियों में बैठकर हाईवे जाम करने आशारोड़ी पहुंचे किसानों की पुलिस से तीखी नोकझोंक हुई। पुलिस ने किसानों को हाईवे जाम नहीं करने दिया।

इससे खफा किसान हाईवे के बीच में धरने पर बैठ गए, लेकिन पुलिस की मौजूदगी के कारण ट्रैफिक दोनों तरफ से चलता रहा। किसानों ने केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर जल्द किसान कानून वापस लेने की मांग की। यह भी चेताया कि यदि ऐसा नहीं किया गया तो किसान आंदोलन तेज करेंगे।  

मंगलवार को भारतीय किसान यूनियन (तोमर) से जुड़े किसान ट्रांसपोर्टनगर स्थित यूनियन कार्यालय में एकत्र हुए। यहां से दोहपर एक बजे कार और ट्रैक्टर ट्रालियों में सवार होकर आशारोड़ी चेकपोस्ट के सामने पहुंचे।

यहां से पहले से ही पुलिस तैनात थी। आक्रोशित किसानों ने हाईवे जाम करने की कोशिश की। इस दौरान कुछ किसान देहरादून की तरफ से जा रहे वाहनों के आगे खड़े हो गए, लेकिन पुलिस ने उन्हें धकेल कर किनारे किया, जिससे यातायात प्रभावित नहीं हो पाया।

किसानों की पुलिस के साथ खूब बहस भी हुई। कुछ देर बाद किसान बीच हाईवे पर धरने पर बैठ गए। केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। कहा कि सरकार ने जो कृषि कानून बनाए हैं, वह किसानों के हित में नहीं है।

यह काले कानून हैं, यदि जल्द समाप्त नहीं किए गए तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। प्रदर्शन करने वालों में प्रदेश अध्यक्ष सोमदत्त शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता अरुण शर्मा, महासचिव श्यामलाल, संगठन मंत्री चमन सिंह, जिला प्रभारी संदीप चौहान आदि शामिल रहे। 


Sources:live hindustan