कुंभ स्नान के लिए कोरोना जांच होगी जरूरी,श्रद्धालुओं की संख्या पर भी होगा नियंत्रण


हरिद्वार में होने वाले कुंभ मेले के दौरान गंगा स्नान को आने वाले श्रद्धालुओं की राज्य के बॉर्डर पर थर्मल स्क्रीनिंग और एंटीजन टेस्ट किए जाएंगे। सरकार की कोशिश होगी कि कोरोना की जांच के बाद ही श्रद्धालु स्नान के लिए आ पाएं।


कोरोना संक्रमण रोकने के लिए जनजागरूकता को लेकर सरकार संतों और आश्रमों की भी सहायता लेगी। सोमवार को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आगामी कुंभ मेले की व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए ये निर्देश दिए।


सीएम ने सिलसिलेवार स्वास्थ्य, सुरक्षा आदि व्यवस्थाओं पर अधिकारियों के साथ विस्तार से चर्चा की। सीएम ने कहा कि श्रद्धालुओं को सुरक्षित ढंग से कुंभ स्नान की सुविधा देने के लिए सभी सरकारी महकमे समन्वय के साथ काम करें। इसके लिए तय समय पर एडवाइजरी भी जारी कर दी जाए। 


रजिस्ट्रेशन, स्क्रीनिंग जांच की व्यवस्था करनी होगी: मुख्यमंत्री ने कहा कि, कुंभ मेले में आने वालों के लिये पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था, एन्ट्री प्वाइंट पर थर्मल स्क्रीनिंग के साथ ही एंटीजन टेस्ट की व्यवस्था करनी होगी। इस पर विशेष ध्यान दिया जाए कि लोग कोविड टेस्ट के बाद ही कुंभ स्नान के लिए आएं। 


डीएम को कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश: सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी ने हरिद्वार के डीएम को इस बाबत विस्तृत कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी व्यवस्थाओं के लिए धनराशि की व्यवस्था की जाएगी।


डीजीपी अशोक कुमार ने कहा कि कुंभ मेले से सम्बन्धित सुरक्षा व्यवस्था, भीड़ प्रबंधन आदि की कार्ययोजना तैयार की जा रही है। बैठक में मुख्य सचिव ओमप्रकाश, सचिव नितेश झा, शैलेश बगोली, प्रभारी सचिव डॉ. पंकज कुमार पाण्डेय, एसए मुरुगेशन आदि अधिकारी उपस्थित थे। 


संतों का लेंगे सहयोग 
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना को लेकर जनजागरूकता के लिए संतों और आश्रमों से भी सहयोग लिया जाए। स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से मास्क तैयार कराए जाएं। सीएम ने हरिद्वार में बनने वाले 1000 बेड वाले कोविड हॉस्पिटल के निर्माण मे तेजी लाने और हरिद्वार के मेडिकल कालेज-अस्पतालों में भी उपचार की बेहतर व्यवस्थाएं करने को कहा।


श्रद्धालुओं की संख्या नियंत्रित होगी 
मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रद्धालुओं की संख्या को नियंत्रित रखने के लिए दूसरे राज्यों से बातचीत की जाएगी। डीजीपी को भीड़ नियन्त्रण आदि के लिए योजना तैयार करने के निर्देश देते हुए कहा कि कहा कि राज्य के सभी एंट्री प्वाइंट पर मेडिकल सुविधाओं का इंतजाम करना होगा। मुख्यमंत्री ने कुंभ के दौरान हरिद्वार के निवासियों एवं आश्रमों में ठहरने वालों के लिए भी बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं का इंतजाम करने पर जोर दिया।


 


Sources:Hindustansamachar