पलटन बाजार में 176 अतिक्रमण किए ध्वस्त,टीम को विरोध का करना पड़ा सामना



अतिक्रमण हटाओ अभियान के दूसरे दिन मशीनरी का रुख बुधवार को अचानक पलटन बाजार की तरफ मोड़ दिया गया। पलटन बाजार पर पूरा ध्यान केंद्रित करने के लिए बाकी जगह की टीम भी यहीं बुला दी गई। टीम के पलटन बाजार में प्रवेश करते ही व्यापारी विरोध में उतर आए।




 


देहरादून / अतिक्रमण हटाओ अभियान के दूसरे दिन मशीनरी का रुख बुधवार को अचानक पलटन बाजार की तरफ मोड़ दिया गया। पलटन बाजार पर पूरा ध्यान केंद्रित करने के लिए बाकी जगह की टीम भी यहीं बुला दी गई। हालांकि, टीम के पलटन बाजार में प्रवेश करते ही व्यापारी विरोध में उतर आए। इस तरह की स्थिति से निपटने के लिए पहले से तैनात पुलिस फोर्स के आगे किसी की नहीं चली। दोपहर बाद तीन बजे तक चले अभियान में 176 अतिक्रमण ध्वस्त कर दिए गए। अभियान धामावाला के पास तक चला और धामावाला समेत सराफा बाजार व आसपास के अन्य बाजार को गुरुवार शाम तक की मोहलत देकर टीम लौट आई। 


पलटन बाजार क्षेत्र के आसपास के बाजार में 600 के करीब अतिक्रमण को देखते हुए यहां सिटी मजिस्ट्रेट कुश्म चौहान, उपजिलाधिकारी सदर गोपाल राम बिनवाल व उपजिलाधिकारी कालसी संगीता कन्नौजिया ने सुबह 10.30 पर ही मोर्चा संभाल लिया था। अचानक पलटन बाजार में धमकी प्रशासन की टीम को देखकर व्यापारी भड़क उठे। करीब एक दर्जन व्यापारी जेसीबी के आगे खड़े हो गए। अधिकारियों ने कोर्ट के आदेश का हवाला दिया और विरोध को व्यर्थ बताते हुए अतिक्रमण हटाने में सहयोग करने की अपील की। साथ ही उन्हेंं पुलिस कार्रवाई की भी चेतावनी दी गई। इसके थोड़ी ही देर बाद व्यापारी जेसीबी के आगे से हट गए।




पलटन बाजार के दोनों छोर के अतिक्रमण हटाते हुए जेसीबी आगे बढ़ती रही। कहीं, दुकानों के छज्जे गिराए गए तो कहीं ऊपरी मंजिल के बाहर निकले हुए हिस्से  को तोड़ा गया। इस दौरान जेसीबी से कुछ तेज प्रहार होने पर पूरी दुकान हिलने लगी तो कारोबारियों ने फिर हंगामा शुरू कर दिया। एक दुकान का शटर टूटने पर भी व्यापारियों ने प्रशासन से शटर को दुरुस्त करने की मांग उठाई। वहीं, कुछ व्यापारी ऐसे भी रहे, जिन्होंने टीम के करीब आने से पहले ही अपना अतिक्रमण तोडऩा शुरू कर दिया था। 


दूसरी तरफ, व्यापारी नेता अभियान को स्थगित करवाने के लिए सरकार ने लेकर शासन व प्रशासन तक से संपर्क साधते रहे। दोपहर बाद इस कसरत का असर भी दिखा और टीम के धामावाला पहुंचते ही अभियान को गुरुवार शाम तक के लिए स्थगित करने का ऐलान कर दिया गया। अतिक्रमण हटाओ टास्क फोर्स के अध्यक्ष विनय शंकर पांडेय ने कहा कि यदि कारोबारियों ने गुरुवार शाम तक अपना अतिक्रमण स्वयं नहीं तोड़ा तो प्रशासन की टीम उसे तोड़ देगी। इससे होने वाले नुकसान की भरपाई व्यापारियों को स्वयं करनी होगी।




प्रेमनगर के व्यापारियों ने किया हाइकोर्ट का रुख


अतिक्रमण हटाने के लिए गुरुवार शाम तक की मोहलत मिलने के बाद प्रेमनगर क्षेत्र के कुछ व्यापारियों ने हाइकोर्ट का रुख कर लिया है। ताकि, अतिक्रमण हटाओ अभियान को लेकर राहत प्राप्त करने का प्रयास किया जा सके। वहीं, अतिक्रमण हटाने को लेकर याचिका दायर करने वाले स्थानीय निवासी आकाश यादव ने भी कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।



पलटन बाजार क्षेत्र में निगरानी करेगी टीम


पलटन बाजार क्षेत्र के तामाम व्यापारियों को गुरुवार शाम तक की मोहलत दिए जाने के बाद प्रशासन की एक टीम यहां के बाजार की निगरानी करेगी। अधिकारी देखेंगे कि व्यापारी स्वयं अपना अतिक्रमण तोड़ रहे हैं, या नहीं।



टास्क फोर्स के अध्यक्ष व नगर आयुक्त विनय शंकर पांडेय के मुताबिक, व्यापारियों को मोहलत इसी शर्त पर दी गई है कि वह स्वयं अपना अतिक्रमण हटाएंगे। इसी बात की तस्दीक के लिए एक टीम दिनभर पलटन बाजार क्षेत्र में ही तैनात रहेगी। कारोबारी चाहें तो अतिक्रमण हटाने में टीम की मदद भी ले सकते हैं। यदि किसी को नाप-जोख में समस्या आ रही है तो इस काम में भी प्रशासन की टीम मदद करेगी। इसके बाद टीम की रिपोर्ट प्राप्त की जाएगी और फिर तय किया जाएगा कि शुक्रवार को किस तरह की कार्रवाई अमल में लाई जानी है।




 

आज डालनवाला, दिलाराम व कौलागढ़ में चलेगा अभियान


अतिक्रमण हटाओ अभियान तीसरे दिन तीन अलग-अलग क्षेत्रों में हथौड़ा चलेगा। इसके लिए तीन टीम तैनात की गई हैं। नगर आयुक्त विनय शंकर पांडेय ने बताया कि गुरुवार को डालनवाला क्षेत्र (विशेष रूप से कर्जन रोड), दिलाराम बाजार व कौलागढ़ में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की जाएगी। डालनवाला क्षेत्र में दो टीम तैनात रहेंगी। वहीं, तीसरी टीम कौलागढ़ व दिलाराम बाजार क्षेत्र में कार्रवाई करेगी। अभियान सुबह 10 बजे शुरू किया जाएगा और सबसे पहले पूर्व में हटाए गए अतिक्रमण का सत्यापन किया जाएगा। अभियान में मुख्य रूप से सिटी मजिस्ट्रेट कुश्म चौहान, उपजिलाधिकारी सदर गोपाल राम बिनवाल व उपजिलाधिकारी कालसी संगीता कन्नौजिया शामिल रहेंगे।


Source:Jagran samachar