बिहार चुनाव: ऑनलाइन नामांकन दाखिल कर सकेंगे उम्मीदवार, नहीं कर पाएंगे बड़ी-बड़ी जनसभाएं


मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि चुनाव नागरिकों का लोकतांत्रिक अधिकार है। इसलिए चुनाव कराने जरूरी हैं। इस बार बिहार चुनाव में एक लाख से ज्यादा पोलिंग स्टेशन होंगे।



 


नयी दिल्ली / मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कोरोना संकट की वजह से दुनिया के 70 देशों में चुनावों को टाल दिया गया। उन्होंने कहा कि बिहार में कुल 243 सीटों पर चुनाव होना है। कोरोना के दौर में पहला बड़ा चुनाव होने जा रहा है।


उन्होंने कहा कि चुनाव नागरिकों का लोकतांत्रिक अधिकार है। इसलिए चुनाव कराने जरूरी हैं। इस बार बिहार चुनाव में एक लाख से ज्यादा पोलिंग स्टेशन होंगे। सुनील अरोड़ा न कहा कि कोविड के चलते नए सुरक्षा मानको के तहत चुनाव होंगे। पोलिंग बूथ पर मतदाताओं की संख्या घटाई जाएगी। एक बूथ पर एक हजार मतदाता ही मतदान कर सकेंगे। सुबह 7 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक वोटिंग होगी। कोरोना मरीजों के लिए अलग व्यवस्था होगी और वह आखिरी घंटे में मतदान कर सकेंगे।


कोरोना काल में होने वाले चुनाव के लिए चुनाव आयोग ने विशेष तैयारियां की हैं जिसकी जानकारी चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने दी। उन्होंने कहा कि 7 लाख हैंड सैनेटाइजर, 6 लाख पीपीई किट्स, 23 लाख हैंड ग्लब्स का इंतजाम किया गया है। 


चुनाव आयुक्त ने बताया कि बिहार विधानसभा चुनाव के ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से नामांकन दाखिल किया जा सकेगा। ऑफलाइन नामांकन भरने के लिए उम्मीदवार दो से ज्यादा गाड़ियां नहीं ला सकते हैं।


इस बार चुनाव प्रचार करने के तरीकों में भी बदलाव होगा। चुनाव आयुक्त ने कहा कि विधानसभा उम्मीदवार समेत महज 5 लोग ही घर-घर जाकर कैंपेन कर सकेंगे। एक साथ पांच से अधिक लोग किसी के घर जाकर प्रचार नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि इस बार बड़ी-बड़ी जनसभाएं आयोजित हो सकेंगे। इसके स्थान पर उम्मीदवार वर्चुअल चुनाव प्रचार कर सकते हैं। 


Source:Agency news