सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद सिंह रावत नहीं लड़ेंगे चुनाव

 देहरादून : बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि उत्‍तराखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत इस बार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। जानकारी के मुताबिक उन्‍होंने भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा को पत्र लिखकर यह इच्‍छा जाहिर की है। उन्‍होंने कहा कि धामी के नेतृत्‍व में भाजपा की सरकार बनाने के लिए काम करना चाहता हूं।  जेपी नडडा को लिखे पत्र में उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री के रूप में कार्य करने का अवसर देने के लिए आभार भी व्‍य‍क्‍त किया है। साथ ही ये भी कहा है कि प्रदेश में युवा नेतृत्‍व वाली सरकार अच्‍छा काम कर रही है। उन्‍होंने कहा, बदली हुई राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। इसलिए मेरा अनुरोध स्‍वीकार कर लिया जाए। आपको बता दें कि त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पत्र में लिखा कि मान्‍यवार पार्टी ने मुझे देवभूमि उत्‍तराखंड के मुख्‍यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर दिया यह मेरा परम सौभाग्‍य था। मैंने भी कोशिश की कि पवित्रता के साथ राज्‍य वासियों की एकभाव से सेवा करुं व पार्टी के संतुलित विकास की अवधारणा को पुष्‍ट करूं। प्रधानमंत्री जी का भरपूर सहयोग व आशीर्वाद मु

भू-माफियाओं के चंगुल मे वन अधिकारी धड़ल्ले से हो रहा वन भूमि पर अतिक्रमण

 




देहरादून: हरे-भरे वनों से आच्छादित देवभूमि उत्तराखण्ड में भू-माफियाओं की गिद्व नज़र रहती है, कुछ भू-माफिया अपने रसूख का इस्तेमाल कर वन भूमि को खुर्द-बुर्द करने में लगे हुये हैं। ऐसा नहीं कि भू-माफिया अकेले ही इस काम को अंजाम देते हैं वल्कि उनके साथ सरकारी अमले की भारी-भरकम फौज भी रहती है जो इनके काम को और आसान बना देते हैं फिर न तो इन्हें किसी का डर होता है और न ही खतरा, क्योंकि वन विभाग वन भूमि पर कब्जा होने वाली जगहों को ही अपने मानचित्र से हटा देता है,जिसके एवज में  इन सरकारी अधिकारियों को भारी-भरकम रकम नजराने के तौर पर मिल जाती है ऐसे में इन माफियाओं के हौंसले बुलन्द होना नई बात नहीं है।  क्योंकि ये तो वही बात हो गई ‘‘जब सैंया भये कोतवाल,फिर डर काहे का’’जी ऐसा ही मामला सामने आया है देहरादून वन प्रभाग के आशारोड़ी रेंज में जहां कहने को तो तेज तर्रार कहे जाने वाले अधिकारी नितीश मणि त्रिपाठी तैनात हैं लेकिन जिस तरह से इस वन क्षेत्र में भू-माफियाओं द्वारा अवैध कब्जे किये जा रहे हैं जिसकी तरफ से उन्होंने अपनी आंखें बन्द कर ली हैं ऐसे में उनकी भूमिका भी संदिग्ध नजर आती है।  

टिप्पणियाँ

Popular Post