सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

त्रिपुरा हिंसा : सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्‍य सरकार को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने के दिए निर्देश

    नई दिल्‍ली /   सुप्रीम कोर्ट त्रिपुरा में हाल ही में हुई सांप्रदायिक हिंसा के मामले में राज्य पुलिस की कथित मिली-भगत और निष्क्रियता के आरोपों की स्वतंत्र जांच के लिए दाखिल याचिका पर सुनवाई के लिए सहमत हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इस याचिका पर सोमवार को केंद्र और राज्य सरकार को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। न्यायमूर्ति डीवाई चन्द्रचूड़ और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने सरकारों को दो हफ्ते के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है।  अधिवक्ता ई. हाशमी की ओर से दाखिल याचिका पर अधिवक्ता प्रशांत भूषण ने पैरवी की। उन्‍होंने सर्वोच्‍च अदालत से कहा कि वे हालिया साम्प्रदायिक दंगों की स्वतंत्र जांच चाहते हैं। इस मामले में अब दो हफ्ते बाद सुनवाई होगी। भूषण ने कहा कि सर्वोच्‍च अदालत के समक्ष त्रिपुरा के कई मामले लंबित हैं। पत्रकारों पर यूएपीए के आरोप लगाए गए हैं। यही नहीं कुछ वकीलों को नोटिस भेजा गया है। पुलिस ने हिंसा के मामले में कोई एफआइआर दर्ज नहीं की है। ऐसे में अदालत की निगरानी में इसकी जांच एक स्वतंत्र समिति से कराई जानी चाहिए। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की प्रति केंद्रीय एजेंसी और

क्या अब बदायूं को "वेेदामऊ" नाम दिया जायेगा ? सी.एम ने संबोधन में दिया इशारा

 


 बदायूं   /  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इलाहाबाद और फैजाबाद जिलों का नामकरण तो कर ही दिया है इसी कड़ी में बदायूं जिले के  सहसवान में जनसभा को संबोधित करते हुये योगी आदित्यनाथने बदायूं के पौराणिक नाम वेदामऊ को जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इस बदायूं को पहले वेदामऊ के रूप में जाना जाता था।

 यहां वेदों का अध्ययन होता था। उनके बदायूं को वेदामऊ कहे जाने के बाद बदायूं को वेदामऊ नाम दिए जाने की चर्चाएं गर्माना शुरू हो गईं।प्रदेश की सत्ता में आने के बाद से सीएम योगी आदित्यनाथ जिलों के नाम बदलने को लेकर चर्चा में रहे हैं। उन्होंने मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलकर दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर कर दिया था। इलाहाबाद शहर का नाम प्रयागराज और फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या किया। 

अलीगढ़ को हरीगढ़ नगर किए जाने और उन्नाव के मियागंज को मायागंज करने का प्रस्ताव भेजा जा चुका है। मैनपुरी और फीरोबाजाद का नाम भी बदलने की चर्चा है। इस बीच मंगलवार को जिले में आए सीएम योगी आदित्यनाथ ने बदायूं जिले की पुरानी याद दिलाते हुए वेदामऊ नाम होने की चर्चा कर इसका नाम बदलने की चर्चाओं को भी तेज कर दिया है। सीएम के मुख से वेदामऊ नाम आने के बाद जनसभा स्थल पर ही इसे लेकर सुगबुगाहट शुरू हो गई थी। वहींए शहर में भी वेदामऊ नाम को लेकर लोग चर्चा करते सुने गएसीएम ने कहाकि आज करोड़ों रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और लोकापर्ण जिस सहसवान विधानसभा क्षेत्र में किया वह बदायूं जिले में है। 

इस बदायूं को पहले वेदामऊ के नाम से जाना जाता था। यह वेदों के अध्ययन के केंद्र के रूप में जाना जाता था। कहते हैं यहां महाराज भगीरथ ने भी तपस्या की थी। महाराज भगीरथ के प्रयास से ही मां गंगा इस धरती पर आई और कोटि कोटि मानवों का उद्धार करते हुए दुनिया में सबसे ऊपजाऊ भूमि हमें दी। रुक कर बोले वेदामऊ

टिप्पणियाँ

Popular Post