सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Featured Post

विपक्ष के हंगामे के बीच कृषि कानून वापसी बिल लोकसभा में पास, राकेश टिकट बोले- आंदोलन जारी रहेगा

  विपक्ष के हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल पास हो गया। हालांकि कांग्रेस पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने सदन में विधेयक पर चर्चा की मांग की। इससे पहले विपक्षी सांसदों के नारेबाजी के बीच लोकसभा में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि क़ानून निरसन विधेयक 2021 पेश किया। राज्यसभा में भी आज ही यह बिल पेश किया जाएगा। आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने पहले ही तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का ऐलान कर दिया था। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नाम अपने संबोधन में इस बात की घोषणा की थी। उसके बाद इसे कैबिनेट की बैठक में भी मंजूरी मिल गई थी।   टिकैत का बयान वहीं, लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल के पास हो जाने के बाद राकेश टिकैत ने कहा कि जब तक एमएसपी को लेकर हमारी मांगे पूरी नहीं होती तब तक यह आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि जिन 700 किसानों की मृत्यु हुई उनको ही इस बिल के वापस होने का श्रेय जाता है। MSP भी एक बीमारी है। सरकार व्यापारियों को फसलों की लूट की छूट देना चाहती है। आंदोलन जारी रहेगा। टिकैत ने कहा कि तीन मामलों का समाधान हो गया है अभी 1 मामला बाकी है। 1

बाढ़ का कहर: तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में मूसलाधार बारिश की आशंका,पानी-पानी हुआ चेन्नई

 

 


 भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने सोमवार को कहा कि 10 और 11 नवंबर को तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों में अत्यधिक भारी वर्षा होने की संभावना है। इससे सड़कें और निचले इलाके जलमग्न हो सकते हैं। कुछ नदियों में बाढ़ आ सकती है। चेन्नई के निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने की सलाह दी गई है।अगले 24 घंटों के दौरान दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। मौसम कार्यालय ने कहा कि इसके पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है। इसके 11 नवंबर की सुबह तक उत्तरी तमिलनाडु तट के पास पहुंचने की संभावना है।


उनका कहना है, "इसके प्रभाव से 8 और 9 नवंबर को तमिलनाडु में भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है। 10 और 11 नवंबर को बहुत भारी बारिश होने की संभावना है।"अगले चार दिनों के लिए दक्षिण-पश्चिम और इससे सटे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी और दक्षिण आंध्र प्रदेश-तमिलनाडु तटों और मन्नार की खाड़ी के साथ-साथ 60 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाली हवाओं के साथ तेज मौसम की भविष्यवाणी की गई है। अगले दो दिनों के दौरान दक्षिणपूर्व बंगाल की खाड़ी में भी इसी तरह के हालात रहने की संभावना है।आईएमडी ने कहा कि मछुआरों को इन क्षेत्रों में काम नहीं करने की सलाह दी जाती है।


 कुछ क्षेत्रों में स्थानीय भूस्खलन, 'कच्ची' सड़कों, कमजोर संरचनाओं और बागवानी और खड़ी फसलों को मामूली नुकसान होने की संभावना है। आईएमडी ने कहा कि इससे कुछ नदियों में बाढ़ आ सकती है।चेन्नई और आसपास के इलाकों में शनिवार रात से हो रही भारी बारिश से बाढ़ की स्थिति बन गई है। अचानक ऐसी स्थिति बन जाने से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। 


अलग-अलग इलाकों में शनिवार रात 10 बजे से बिजली गरजने के साथ बारिश शुरू हो गई थी। रविवार सुबह 8:30 बजे तक 21.5 सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गई। उपनगरीय मीनांबक्कम हवाई अड्डे पर 12 सेंटीमीटर बारिश हुई है। जानकारी के मुताबिक 2015 के बाद शहर में शनिवार रात को सबसे अधिक बारिश हुई है। बारिश से इलाकों में बाढ़ जैसी स्थिति बन गई है। अगले 24 घंटे में तमिलनाडु के तटीय इलाके में बारिश होने का अनुमान व्यक्त किया गया है।

टिप्पणियाँ

Popular Post